blogid : 2899 postid : 1342598

जब उन्होंने रौंद डाली इंसानियत

Posted On: 26 Jul, 2017 Others में

Harish Bhatt

Harish Bhatt

329 Posts

1555 Comments

जब उन्‍होंने रौंद डाली इंसानियत

दिव्यांग होने के बावजूद मैं सिर उठाकर जी रहा हूं, पढ़ा-लिखा हूं, लेकिन आज जो घटना मेरे साथ घटी है, मुझे पहली बार अपने दिव्यांग होने के कारण रोना आया. इंसानियत शायद मर चुकी है. शिकायत करने पर एक बस के ड्राइवर-कंडक्टर ने हालांकि मुझसे माफी मांगी, मैंने उन्हें माफ भी कर दिया, लेकिन इस घटना ने मुझे बहुत दर्द दिया और यह सब देवभूमि में हुआ. जगदीश कोहली, पीडि़त दिव्यांग

disable

दिव्यांग जगदीश कोहली को यह दर्द दिया है उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में सिटी की लाइफ लाइन कही जाने वाली सिटी बस चालक और कंडक्टर ने. ऐसे में सवाल उठना लाजिमी है कि क्या सिर्फ दिव्यांग नाम देने भर से ही जिंदगी खुशनुमा हो जाती है. उसके लिए समाज का संवेदनशील होना भी जरूरी है. भले ही सिटी बसों में शहर का दिल धड़कता हो, लेकिन रुड़की से देहरादून आए दिव्यांग सीनियर सिटीजन के दिल को ठेस भी सिटी बस की वजह से ही लगी. दो घंटे बारिश में भीगते हुए वे बस में बैठने की गुहार लगाते रहे, लेकिन इंसानियत को रौंदते हुए किसी भी बस कंडक्टर ने उनको बस में नहीं बैठाया। उनको उम्र के इस पड़ाव पर सोचने के लिए मजबूर कर दिया कि पैर जिनका साथ नहीं देते हैं, उनको कोई कंधा भी नहीं देता.

भले ही देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कहते रहे कि दिव्यांग दिव्य अंगों वाले होते हैं, उनका सम्मान होना चाहिए. भले ही सरकारी ऑफिसों में उनके लिए रैंप बना दिए गए हों, बसों में सीट आरक्षित कर दी हो. लेकिन रैंप तक पहुंचने और सीट पर बैठने से पहले ही लाइफ लाइन दिव्यांगों का साथ छोड़ दे, तो सरकार की दिव्यांगों के प्रति सारी कवायद पानी-पानी हो जाती है. यह सिर्फ एक शख्स की कहानी नहीं है, बल्कि यह नजरिया है उस समाज का जो दिव्यांगों के प्रति आज भी कुंठित मानसिकता को प्रदर्शित करता है. बुलंद हौसले वाले दिव्यांगों को दया नहीं, सहयोग की जरूरत होती है.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग