blogid : 2899 postid : 1315630

त्रिशंकु विधानसभा की ओर बढ़ता उत्तराखंड

Posted On: 21 Feb, 2017 Others में

Harish Bhatt

Harish Bhatt

329 Posts

1555 Comments

15965728_1499867836690838_7862708422341721856_n
उत्तराखंड की लगभग हर विधानसभा सीट पर कांग्रेस और भाजपा में कांटे की टक्कर है. साथ ही बागियों ने छक कर पार्टी की जड़ों को मठ्ठे से तर करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है. तब ऐसे में भाजपा और कांग्रेस कैसे दावा कर सकती है उनकी पूर्ण बहुमत की सरकार बनेगी. सबके अपने-अपने तर्क है. जहां भाजपाई मान रहे हैं कि लगभग 40 सीटों के साथ सरकार बनाएगे, वहीं कांग्रेसी सत्ता में वापसी के प्रति आश्वस्त है. तीसरी ओर निर्दलीय के तौर बागी मूंछों पर ताव दे रहे है कि हमारे समर्थन के बिना राष्ट्रीय दल को सत्ता सुख कैसे मिलेगा. गठबंधन की सरकारों का खामियाजा उत्तराखंड की जनता भुगत रही है. 17 वर्ष के उत्तराखंड का राजनीतिक इतिहास यही बयां करता है कि कांग्रेस हो या भाजपा दोनों ने राज्य के विकास से ज्यादा ध्यान और पैसा सत्ता में बने रहने के लिए निर्दलियों को ही साधने में लगाया है. इतिहास से सबक न लेते हुए दोनों पार्टियों ने प्रत्याशी चयन में ही गठबंधन सरकार की रूपरेखा बना ली थी. सिटिंग एमएलए के टिकट न कटने के ऐलान के बाद भी टिकट न दिया जाना, जनता के बीच पैठ बनाने वाले प्रत्याशी की जगह पैराशूट प्रत्याशियों को चुनाव मैदान में उतारना या फिर दूसरी विधानसभा में जबरन भेज देने की बात हो. जब चुनाव जीतने की कवायद से ज्यादा जमीनी नेताओं के पर काटने पर काम किया गया हो तब ऐसे में पूर्ण बहुमत मिलने की बात करना बेमानी ही साबित होता है. एक बार फिर उत्तराखंड के कदम त्रिशंकु विधानसभा की ओर बढ़ते दिख रहे है.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग