blogid : 4683 postid : 659

Hasyakavita for Kids (हिन्दी हास्यकविता)

Posted On: 15 May, 2013 Others में

Hasya KavitaHasya Kavita in Hindi, Hasyakavita, Funny Shayari, Funny Hindi Poems, हिन्दी हास्य कविता, हास्य कविता

Hasya Kavita

272 Posts

172 Comments

हम दौड़ें तो गिर-गिर जाएँ
दौड़े ट्रेन न गिरती है  ।
पतली-पतली पटरी पे
छुक-छुक करके चलती है ।।

सनसन चाल निराली इसकी
हवा से बातें करती है ।
दिन हो या सावन की रात
ये तो चलती रहती है ।।

सर्दी, गर्मी, वर्षा, आंधी
हम सबके हित सहती है ।
पापा को घर से ले जाये
वापस भी ले आती है ।।

सैर  कराए हमें घुमाये
लेकिन कभी न थकती है ।
गाँव नदी गिर शहर दिखाए
जंगल में न डरती है ।।

जहाँ हो चढ़ना हमें उतरना
आकर वहाँ ये रूकती है ।
जब-जब बोले तेजी से
डर हमको तब लगती है ।।

जो भी जाये उसे घुमाये
सबकी सेवा करती है ।
मेरे जैसे सेवा सीखो
हम सबसे भी कहती है ।।

देखो ! देखो ! वह देखो !
प्यारी ट्रेन गुजरती है ।
एक खराबी इसमें केवल
काला धुआँ उगलती है ।।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (24 votes, average: 3.79 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग