blogid : 4683 postid : 604

सलमान खान का साला: हास्य कविता

Posted On: 3 Mar, 2013 Others में

Hasya KavitaHasya Kavita in Hindi, Hasyakavita, Funny Shayari, Funny Hindi Poems, हिन्दी हास्य कविता, हास्य कविता

Hasya Kavita

272 Posts

172 Comments

सड़क छाप आशिकों की एक खास बात होती है कि वह अपने आप को सलमान खान का अंकल समझते हैं. बीच की मांग, टाइट जींस और मुंह में पान लेकर लड़कियों की ताड़ में रहने वाले इन आशिकों के लिए यो यो हनी सिंह जैसे गायक खुदा समान होते हैं. घर में दाल पकी ना पकी इसकी फिक्र इन्हें नहीं होती. इन्हें तो बस मतलब होता है सामने वाली लड़की के कपडों और मेकअप की. गलती से कोई लड़की इनकी गली से गुजर जाए तो इनकी लार जीभ से टपकते हुए शर्ट गिली कर जाती है. ऐसे ही आशिकों की हरकत पर कवि ने एक हास्य कविता

आशिक था बेचारा

इश्क का मारा

समझता था खुद को

शाहरुख का साला

चेहरा था मासूम

हाथ अगरबत्ती

पैर मोमबत्ती

वज़न बीस किलो

पकड़ कर नहीं रखो तो

तेज़ हवा में उड़ जाए

कोई ऊंगली लगा दे

तो ज़ख़्मी हो जाए

गुस्सा इतना

कि आग भी शरमाए

जुबान गालियों से भरी

एक कन्या नज़र आयी

तो सीटी बजायी

फिर घूर कर देखने लगा

आशिकी

अंदाज़ में फिकरा कसा

चलती क्या खंडाला

कन्या ने पहले पुचकारा

फिर फुफकार कर बोली

पहले हाथ पैर सम्हाल

फिर हो जा नौ दो ग्यारह

नहीं तो बजाऊँगी बारह

आशिक था अकडा हुआ

अमचूर

जवाब में गाली बक दी

कन्या ने भी गाल पर

थप्पड़ जड़ दिया

आशिक बेचारा

चार फुट दूर उछल गया

बुक्का फाड़ कर रोने लगा

सारी हेकड़ी निकल गयी

कहने लगा बहना

मज़ाक कर रहा था

कन्या बोली

मैं नहीं कर रही थी

जब भी

मज़ाक का मन करे

मुझे बता देना

किसी कन्या को

छेड़ने से पहले

थोड़ी सेहत बना ले

रोज़ एक बादाम खा ले

आधा पाँव दूध पीले

अब जा कर आराम कर ले

माँ की गोद में सो ले

)लिखी है गौर फरमाइएंगा.

Hindi hasya kavita for Lovers

आशिक था बेचारा

इश्क का मारा

समझता था खुद को

शाहरुख का साला

चेहरा था मासूम

हाथ अगरबत्ती

पैर मोमबत्ती

वज़न बीस किलो

पकड़ कर नहीं रखो तो

तेज़ हवा में उड़ जाए

कोई ऊंगली लगा दे

तो ज़ख़्मी हो जाए

गुस्सा इतना

कि आग भी शरमाए

जुबान गालियों से भरी

एक कन्या नज़र आयी

तो सीटी बजायी

फिर घूर कर देखने लगा

आशिकी

अंदाज़ में फिकरा कसा

चलती क्या खंडाला

कन्या ने पहले पुचकारा

फिर फुफकार कर बोली

पहले हाथ पैर सम्हाल

फिर हो जा नौ दो ग्यारह

नहीं तो बजाऊँगी बारह

आशिक था अकडा हुआ

अमचूर

जवाब में गाली बक दी

कन्या ने भी गाल पर

थप्पड़ जड़ दिया

आशिक बेचारा

चार फुट दूर उछल गया

बुक्का फाड़ कर रोने लगा

सारी हेकड़ी निकल गयी

कहने लगा बहना

मज़ाक कर रहा था

कन्या बोली

मैं नहीं कर रही थी

जब भी

मज़ाक का मन करे

मुझे बता देना

किसी कन्या को

छेड़ने से पहले

थोड़ी सेहत बना ले

रोज़ एक बादाम खा ले

आधा पाँव दूध पीले

अब जा कर आराम कर ले

माँ की गोद में सो ले

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 4.75 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग