blogid : 15051 postid : 806339

ओ..व्यंगी .धर्म पागल न आ रे न आ रोको कोई ...

Posted On: 11 Jan, 2015 Others में

PAPI HARISHCHANDRASACH JO PAP HO JAYEY

PAPI HARISHCHANDRA

232 Posts

935 Comments

.किसी पात्र पत्रिका का व्यंग बाण जब किसी धर्म या जाति विशिष्ट पर पड़ता है जिसके धर्म के खिलाफ हो तो वह भी तामसिक ही कहलायेगा | अपनी पत्रिका के विक्रय को बढ़ावा देने के लिए ऐसा किया जाता है | चर्चित बनी चीज अवश्य विकती है | जिस पर व्यंग किया उसी के समर्थकों को बदनाम भी कर दिया | ऐसी तामसिक व्यंग मैं अभिव्यक्ति की पूर्ण स्वतंत्रता मानी जाती है | इसमें अच्छे बुरे का विचार नहीं किया जाता है |

व्यंग व्यंग न होकर गालियां हो जाती हैं | और गलियां उसी की सही जाती हैं जो अपना हो | टीनएजर बच्चे दिल खोलकर आपस मैं गाली गलौज करते भी खुसी से सहन करते साथ साथ रहते हैं | किन्तु किसी बाहर के लड़के की गाली को किसी कुत्ते की तरह जबाब अवश्य देते हैं |

व्यंग व्यंग कितना सुंदर शब्द है व्यंग ,लगता है किसी ने रंग डाल दिया हो | टेड़े मेढे रंगीले होली के चेहरे याद आ जाते हैं | किसी पर व्यंगात्मक चेहरा बनाये व्यंगात्मक टीका टिप्पणी जिस पर की जाती है उलझ ही जाता है | हंसें ,रोएँ ,या लड़ें..| किन्तु अन्य आस पास के सुनने देखने वाले लोगों के लिए अवश्य ही हंसी ,मुस्कराहट ल देती है | व्यंग इन्हीं अस पास के सुनने देखने ,पड़ने वाले लोगों को खुश करने के लिए ही लिखे, बोले जाते हैं | जिस पर व्यंग किया जाता है उसकी भावनाओं पर ध्यान नहीं दिया जाता | व्यंग बच्चे के पैदा होते ही आरम्भ हो जाता है उस पर टीका टिप्पणी तुरंत आरम्भ हो जाती है | बच्चा तो इन व्यंगों की प्रतिक्रिया नहीं कर पाता | किन्तु जैसे जैसे बड़ा होता जाता है आस पास के परिवेश से व्यंग बाण आरम्भ होते बच्चा समझने लगता है | कुछ न कुछ प्रतिक्रिया अवश्य करता है | …………………………...यही व्यंग बाणों की वर्षा जब यौवन प्राप्त युवतितियों पर युवकों द्वारा होती है तो वह लड़कियों को छेड़ना छेड छाड़ कहलाती है | किसी को गुदगुदी होती है तो किसी को अपमान का आभास होता है | अपमान महसूस करने वाली युवतियां प्रतिक्रिया मैं जूते चप्पल ,गाली की वर्षा करने लगती हैं | कुछ अपने लोगों से शिकायत करके दण्डित भी करवा देती हैं | कभी कभी भयंकर मारकाट भी हो जाती hai ……………………….व्यंग भी तीन प्रकार के होते हैं सात्विक …राजस …तामसिक …| ……………………………………..मनोरंजक बनाना ही जिसका ध्येय हो ,जिसका फल का कोई उद्देश्य न हो…सात्विक होते हैं | ………………………… राजस जिसके उद्देश्य किसी फल की इच्छा लेकर हो | प्रतिक्रिया हो और उसका लाभ उठाया जाये | ……………और तामसिक वे व्यंग होते हैं जो कुड बुद्धी से युक्त आतंक फैलाने या निरुद्देश्य होते हैं | जो कहीं भी कभी भी प्रकट होकर भय पैदा कर देते हैं | ……………. सात्विक व्यंग सदाबहार होते हैं किन्तु लोकप्रियता नहीं पाते हैं | ………………………………………….राजस व्यंग का एक उद्देश्य अवश्य होता है जिससे व्यंग करता उसकी प्रतिक्रिया से अपनी कार्य सिद्धी करता है | नरेंद्र मोदी जी के व्यंग इसी श्रेणी मैं आते हैं | कांग्रेस ,राहुल गांधी ,सोनिया गांधी , मनमोहन सिंह ,पर व्यंग बाण की बौछार कर करके उन्हें धराशायी कर सत्ता पाई | ………………………………………………...किसी लड़की को पटाने ,या पुरुष को पटाने के भी राजस व्यंग ही कारगर होते हैं | सात्विक व्यंग लाखों मैं एक ही कारगर हो पाता है | युक्ति पूर्ण राजस व्यंग करके ही किसी लड़की या लड़के को पटाया जाता है | ……………………….किन्तु तामसिक व्यंग से लड़का या लड़की डर या घृणा करने लगती है | किसी दबंग का ही तामसिक व्यंग बाण कभी कभी सफल हो पाता है | किन्तु मानसिक स्थिरता इसमें नहीं हो पाती है | ……………………………………….|…..भारत के प्रधानमंत्री ने भारत के लोगों से अपील की कि लोगों को आलोचना करनी चाहिए न कि आरोप लगाने चाहिए।..प्रधान मंत्री जी हम तो व्यंग करके भी मार खाते हैं | आरोप लगाना या आलोचना करना तो शक्तिशाली व्यक्तियों द्वारा ही किया जा सकता है | शक्ति से ही शक्ति बड़ाई जा सकती है | जैसे धन से धन बढ़ाया जाता है | लोगों को अपनी शक्ति अनुसार ही व्यंग ,आरोप या आलोचना करनी चाहिए | लेकिन बुद्धिमान लोग बलि का बकरा भी ढूंढ लाते हैं और सर्व शक्ति पा लेते हैं | ऐसे लोग सामने नहीं आते हैं | अपनी शक्ति के अनुसार व्यव्हार नहीं करने वाले मार अवश्य ही खाते हैं | .राजनीती और व्यवसाय मैं अपनी बुद्धी बल से समयानुसार आरोप या आलोचना के साथ साथ व्यंग भी सर्व प्रकार के सात्विक ,राजस ,तामस प्रयोग मैं लए जाते हैं | तभी तो एक साधारण व्यक्ति विश्व के सबसे बड़ा व्यवसायी बन जाता है | एक चाय वाला सर्वोच्च पद प्रधान मंत्री तक पा लेता है ………………………….महान व्यंगकार खुशवंत सिंह तक को कहना पड़ा कि न कहु से दोस्ती न कहु से बैर ....| क्यों नहीं ऐसी तामसिक पत्र पत्रिकाओं को बंद किया जाता ,जो आतंक का कारक बने | या व्यंग पर पूर्णतः प्रतिबन्ध लगा दिया जाता | आलोचना ,या आरोप सशक्त व्यक्तियों द्वारा होते हैं वे उसे झेल लेंगे | …………………...इस सत्य को कौन दुनियां की सरकारों को समझाए …? ……..…………………………………………सबसे ज्यादा व्यंग पति पत्नियों के बीच ही होते हैं और दिन रात कलेश का कारण बन जाते हैं | मरते मरते भी व्यंग करना नहीं भूलते हैं | काश .. व्यंग नहीं करते तो सुगम जीवन साथी बन पाते | विदेशों मैं तो सर्वाधिक होने वाले तलाक इन्हीं व्यंग बाणों के कारण होते हैं | भारत मैं तो मजबूरी होती है संयुक्त परिवार इनको सहकर ,अगली पीढ़ी को सहने की सीख देते हैं | कोई बात नहीं आज बहु बन कर सहो, कल तो सास बन कर व्यंग बाण मारना ही है | ………………..घर मैं किसी व्यंग करने वाले की दूरी बांयी जाती है ,चाहे पिता हो माता हो सास हो बहु हो …| दैनिक जागरण भी अपने हाथों को देखकर या भगवन की मूर्ती देख कर ही करनी पड़ती है | ऑफिस मैं भी किसी क्रूर व्यंग करने वाले बॉस से दूरी बनाये रखो तभी भलाई समझी जाती है | पता नहीं नजर पड़ते ही क्या सुन्ना पड जाये ..? | दैनिक जागरण कराने वाले का भी यही धर्म बन जाता है कि वह किसी पापी व्यंग से अपनों को दूर ही रखे | ………………………..होली तो बसंत मैं आकर एक बार ही रंगों से रंगती है किन्तु व्यंग तो सारे जीवन बसन्ती व्यंग रंगों से रंगती रहते है | …………………..ओ बसन्ती पवन पागल न जा रे न जा रोको कोई …………………………….लेकिन मैं तो यही कहूँगा …………………………………………………ओ व्यंगी ….धर्म पागल न आ रे न आ रोको कोई …..| ………………………………………………..ओम शांति शांति शांति

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग