blogid : 15051 postid : 837991

कांग्रेस का छींका फूटेगा ,अजय माकन खाएंगे माखन ....

Posted On: 29 Jan, 2015 Others में

PAPI HARISHCHANDRASACH JO PAP HO JAYEY

PAPI HARISHCHANDRA

232 Posts

935 Comments

२०१४ का दिल्ली विधान सभा चुनाव त्रिकोणीय था जिसमें कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी सशक्त थीं किन्तु आप और उसके संथापक अरविन्द्र केजरीवाल नौसिखिये थे | दो सशक्त बिल्लियाँ एक रोटी के टुकड़े पर लड़ती रहीं और केजरीवाल की आप ने चमत्कार कर दिया | ……….२०१५ का दिल्ली विधान सभा चुनाव भी त्रिकोणीय ही है किन्तु बिल्ली केजरीवाल की आप और किरण की भारतीय जनता पार्टी है | दोनों पार्टियां ही सशक्त हैं | भ्रमित बोटर किधर लूडक जाये कोई कुछ कह नहीं सकता है | कांग्रेस के वोटरों की निश्चित आकार की लकीर है | मुस्लमान भी कांग्रेस की झोली मैं ही रहेंगे | वोटर रुपी रोटी का टुकड़ा नुचते नुचते छोटे आकर की लकीर रह जायेगा और कांग्रेस अपनी विधायकों की लकीर बड़ा लेगा | ……………….………….एक ही गुरु के दो ईमानदार छवि वाले केजरीवाल और किरण बेदी भी वोटरों को भ्रमित करेंगे | इस भ्रमित परिस्थिती मैं फिर त्रिसन्कु विधान सभा ही संभावित होगी | त्रिशंकु विधान सभा मैं प्रबल विरोधी आप और भारतीय जनता पार्टी मिलकर कभी सरकार नहीं बना पाएंगे | लौट फेर कर फिर एक ही सम्भावना बचेगी आप और कांग्रेस मिलकर बनायें | भारतीय जनता पार्टी की मोदी लहर और आप की अरविन्द्र केजरीवाल की लहर दोनों आपस मैं भिड़कर समतल हो जाएंगी | इस समतल धरातल मैं लगता यही है की कांग्रेस अपनी विधायक संख्या दुगनी कर लेगा और अपना मुख्यमंत्री बनाने को बाध्य कर देगा | आप और कांग्रेस मिलकर सरकार तो बनाएंगे किन्तु मुख्यमंत्री कांग्रेस का ही होगा | ………………………………………………..यानि की कांग्रेस के घोषित अजय माकन जी ही माखन खाते नजर आएंगे | मैं इधर जाऊँ या उधर जाऊँ…के भ्रम से वोटर कांग्रेस की झोली मैं खुशियां भर देंगे | राजनीती की यही कूटनीति होती है दो सशक्त दुश्मनों को लड़ कर कमजोर होने दो और सत्ता हथिया लो | एक चमत्कार फिर होगा दिल्ली की राजनीती मैं | कांग्रेस का फूटा भाग्य फिर से जाग्रत हो जायेगा | ………………………………………………..भारतीय जनता पार्टी का सांसदों ,विधायकों कार्यकर्ताओं की भयंकर फौज भी इसीलिये तैनात की जा रही है की पूर्ण बहुमत हासिल कर ले | किन्तु जितनी बड़ी फौज जनता को नजर आएगी जनता और भी भ्रमित होगी | अरविन्द्र केजरीवाल तो हरिश्चन्द्री रूप मैं ही रहेंगे उनके भाग्य मैं अपने दुश्मन को हराना तो लिखा है किन्तु उसका लाभ दूसरा ले उड़ता है | पाहिले कांग्रेस को हराया ,अब भारतीय जनता पार्टी को हराना या सत्तारूढ़ न होने देना | खैर हरिश्चंद्र तो इतने से ही खुश हो जाता है की उसके ईमानदार सत्य स्वरुप से बड़े बड़े सम्राट भी धरासायी हो जाते हैं | सत्ता मिले न मिले ईमानदार रहकर सत्य ही तो बोलना है | जो राजनीती मैं कभी कामयाब नहीं होता | राजनीती मैं तो ईमानदारी सत्य वादिता को छोड़कर साम , दाम दंड ,भेद सभी अपनाना होता है | ……………………………………………………………………………………………………अवसरवादी व्यक्ति ही व्यवसाय या राजनीती मैं सफल होता है | राजनीती मैं मौके का फायदा न उठाने वाले मुर्ख ही कहे जाते हैं | धर्म ईमान सब राजनीती ही होती है | बीते कल मैं क्या कहा सब भुला देना होता है | राजनीतिज्ञ वर्तमान मैं जीता है तभी तो सम्राट तक बन जाता है | …………………………………….ओम शांति शांति

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग