blogid : 10082 postid : 1110366

वेनूर ज़िंदगी......... (ग़ज़ल)

Posted On: 24 Oct, 2015 Others में

कड़वा सच ......सत्य कहने से अभी तक डरा नहीं है / घाव गहरा है अभी तक भरा नहीं है // लाख पैरों तले कुचला गया "अंकुर" ज़माने के सत्य से जन्मा है, इसलिए मरा नहीं है //

Mohd Haneef "Ankur"

23 Posts

650 Comments

आमाल में अख़लाक़ मिलाने से क्या मिला.
वेनूर ज़िन्दगी के फ़साने से क्या मिला..

हालात ऐसे हो गए हैं अब तो दोस्तों.
नगमा वफ़ा का तुझको सुनाने से क्या मिला..

घर काँच का बनाया और पत्थर से डर गया.
अरमान को फौलाद बनाने से क्या मिला..

काली घटा के साये हैं शमशान की आहट.
अपनों पे खून अपना बहाने से क्या मिला..

आवाज तुझको दे रही हैं जलती बस्तियाँ.
खुद अपना हाथ तुझको जलाने से क्या मिला..

मेरी तमाम कोशिशें बेकार हो गईं.
उजड़े हुए चमन को बसाने से क्या मिला..

जब आशियाँ बारूद से तैयार है तेरा.
उसमे वफ़ा का ख्वाव सजाने से क्या मिला..

मैयत के पास बैठके क्यों रो रहा है तूँ.
तुझको चराग घर का बुझाने से क्या मिला..

नफरत की आँधियाँ है और सैलाब हर तरफ.
“अंकुर” तुझे बता दे ज़माने से क्या मिला..
******************************************************

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग