blogid : 7629 postid : 866024

बाराती हुए लेट तो हर मिनट 100 रुपये के हिसाब से देना पड़ सकता है जुर्माना!

Posted On: 2 Apr, 2015 Others में

अद्भुत दुनियारंग-बिरंगी दुनिया की अद्भुत तस्वीर और अनोखे रंग-ढंग को दर्शाता ब्लॉग

विविधा

1490 Posts

1294 Comments

ख़ाप पंचायतों के फरमान और मौलवियों के फतवे न मानने वाला टौंकपुरी टांडा गाँव शादी से संबंधित अनोखी प्रथाओं के कारण चर्चा में है. यहाँ शादी की कुछ रस्में प्रचलन में हैं. इन रस्मों का विद्यालय में देरी से पहुँचने वाले विद्यार्थियों से कोई सीधा संबंध नहीं है. लेकिन एक शब्द शादी की इस रस्म और पुराने समय में देर से विद्यालय पहुँचने वाले विद्यार्थियों को जोड़े रखती है.


SipaPic1


लगभग 10,000 आबादी वाले इस गांव में शादी संबंधी कुछ दिलचस्प प्रथायें प्रचलन में है. इस गांव में शादी की एक रस्म के अनुसार अगर बारात वधू पक्ष के दरवाज़े पर देरी से पहुँचती है तो बारातियों पर हर मिनट 100 रुपये के हिसाब से जुर्माना लगाया जाता है. इसके अलावा शादी के दौरान लोगों को गलियों में नाचने और ढोलक बजाने की इजाजत नहीं है. शादियों में खाने की बर्बादी पर भी रोक है.


Read: यहां अपने भाई के लिए दुल्हा बनकर बहन करती है दुल्हन से शादी


गाँव के ही लड़के-लड़की की शादी को यहाँ शुभ माना जाता है जबकि अगर किसी लड़की की बारात दूसरे गांव से आती है तो उसे अपवित्र माना जाता है. इस प्रथा की वजह से गाँव की बेटियाँ बुरे इरादों वाली असामाजिक तत्वों से बची रहती हैं. इनका ये भी मानना है कि इन प्रथाओं की वजह से उनके पूर्वजों के स्थापित नैतिक और धार्मिक मूल्यों की उपेक्षा नहीं हो पायेगी. न चाहते हुए भी बारातियों पर हर मिनट सौ रूपये का जुर्माना पुराने समय में देर से विद्यालय पहुँचने वाले विद्यार्थियों पर शिक्षकों द्वारा लगाये जाने वाले जुर्माने की याद दिला जाता है.Next….


Read more:

शादी के बीच में पहुँची दुल्हन की बेटी और रो पड़े मेहमान

अगर मुझसे शादी करनी है तो तुम्हें मुझे बाथरूम ले जाना होगा, नहलाना होगा… मंजूर है? एक अनोखा लव प्रपोजल…

क्यों महिलायें लगाती है शादी के समय इत्र…..जानिये 16 श्रृंगारों का है पौराणिक महत्व


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग