blogid : 7629 postid : 850623

वैज्ञानिकों का दावा पेट्रोल और डीजल से कहीं अधिक सस्ता होगा यह ईंधन

Posted On: 11 Feb, 2015 Others में

अद्भुत दुनियारंग-बिरंगी दुनिया की अद्भुत तस्वीर और अनोखे रंग-ढंग को दर्शाता ब्लॉग

विविधा

1490 Posts

1294 Comments

नारियल तेल बालों के लिए अच्छा होता है और इसका दक्षिण भारतीय व्यंजन बनाने में भी प्रयोग किया जाता है, पर क्या आपको पता है कि नारियल तेल गाड़ियों के लिए एक बहुत अच्छा ईधन भी साबित हो सकता है. यह कारनामा किया है केरल के कुछ वैज्ञानिकों ने. इन वैज्ञानिक ने डीजल इंजन वाले छोटे ट्रक को पिछले एक साल से सफलतापूर्वक नारियल तेल से चलाने में कामयाबी पाई है.


truck


कोच्चि के एससीएमएस इंस्टीट्यूट ऑफ बायोसाइंस एंड बायोटेक्नोलॉजी रिसर्च एंड डेवलपमेंट और एससीएमएस स्कूल ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी से जुड़े वैज्ञानिकों ने इस जैव ईंधन को व्यावसायिक करने के लिए केंद्र सरकार से अनुमति मांगी है. वैज्ञानिकों के दावे बेहद हैरान करने वाले हैं. उनके अनुसार टाटा एसीई ट्रक बनाने वाली कंपनी दावा करती है कि यह वाहन एक लीटर डीजल में 16 किलोमीटर का माइलेज दे सकता है, जबकि नारियल तेल से यह वाहन प्रति लीटर 22.5 किलोमीटर का माइलेज दे रहा है. छह वैज्ञानिकों के इस दल का नेतृत्व करने वाले वैज्ञानिक सी.मोहनकुमार ने बताया कि इस ट्रक को एक साल पहले खरीदा गया था। अब तक यह 20 हजार किलोमीटर चल चुका है जिससे यह साबित होता है कि नारियल तेल को आसानी से डीजल की जगह प्रयोग किया जा सकता है.


Read: जहां पहुंचते-पहुंचते 1000 सीसी की बाईक हांफने लगती है, वह रिक्शा चलाकर पहुंच गया


मोहनकुमार ने बताया कि अन्य जैव डीजल की तुलना में नारियल तेल से बनने वाले जैव डीजल से उत्सर्जन काफी कम होता है और यह प्रकृति के अनुकूल भी है. उन्होंने कहा कि 10 हजार लीटर नारियल तेल से 760 लीटर जैव ईंधन तैयार किया जा सकता है. नारियल तेल से जैव ईंधन बनाने की प्रक्रिया में पांच ऐसे उत्पाद भी निर्मित होते हैंं जिनकी बाजार में काफी कीमत है.


images


760 लीटर जैव ईंधन बनाने में पांच हजार किलोग्राम भूसी, 2500 किलोग्राम नारियल का छिलका, 1250 किलोग्राम नारियल पानी और लगभग 1200 किलोग्राम केक और 70 लीटर ग्लिसरॉल बनता है. बाजार में इन उत्पादों की अच्छी कीमत मिल जाती है और इस तरह जैव ईंधन की लागत मूल्य बेहद कम हो जाती है और इसे 40 रुपए प्रति लीटर बेचा जा सकता है.


Read: बाईक की रफ्तार से दौड़ेगा सुपर रिक्शा


मोहनकुमार ने कहा कि उन्होंने पहले ही अमेरिकी पेटेंट के लिए आवेदन कर दिया है साथ ही जैव ईंधन के रूप में इसका व्यवसायीकरण करने के लिए केंद्र सरकार से भी संपर्क किया गया है. वहीं नारियल विकास समिति (सीडीबी) के अध्यक्ष टी.के.जोस का कहना है उन्होंने कि वैज्ञानिकों द्वारा इस्तेमाल किए जा रहे वाहन के प्रदर्शन का अध्ययन किया है. पर इस नए अविष्कार को आगे ले जाने के लिए सीडीबी के पास फंड नहीं है. फंड के लिए केंद्र सरकार से संपर्क किया गया है. Next…


Read more:

इन तरीकों से आम लोगों को परेशान करते हैं ऑटो चालक… जानिए कैसे पाएं इनसे निजात

इसे मौत का रास्ता कहते हैं

टाट्रा ट्रक और सेना

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग