blogid : 7629 postid : 1308377

इस कंपनी ने 3 साल का काम कर दिया सिर्फ 3 महीने में, दुनिया भर के देशों में भारत को मिली ये रैंक

Posted On: 29 Jan, 2017 Others में

अद्भुत दुनियारंग-बिरंगी दुनिया की अद्भुत तस्वीर और अनोखे रंग-ढंग को दर्शाता ब्लॉग

विविधा

1490 Posts

1294 Comments

अगर आपने अपने घर के सपने को पूरा करने के लिए कहीं अपना घर बुक कराया है, तो यह आपका  सौभाग्य होगा कि आपको आपका घर नियत समय पर मिल जाए, क्योंकि हमारे देश भारत में कंस्ट्रक्शन हमेशा मंद गति से होता है और साथ ही किसी प्रोजेक्ट की समयावधि के साथ इस पर ख़र्च होने वाली लागत में भी इजाफा हो जाता है. बड़े-बड़े प्रोजेक्ट के निर्माण में होने वाला विलम्ब देश की विकास दर को तो नीचे धकेलता ही है, साथ में में उस प्रॉजेक्ट के लिए निश्चित की गयी लागत में भी इजाफा कर देती है और इस देश के विकास के लिए बनायीं गयी योजनायें पूरी होने के बाद भी की उन्नति में सहायक सिद्ध नहीं हो पाती . बल्कि यूँ कहिये कि हमारे देश में किसी भी कंस्ट्रक्शन का समय पर पूरा हो जाना महज एक सपने जैसा है .


infra


‘वर्ल्ड इकनॉमिक फोरम’ 2015-16 के अनुसार भारत आज भी कंस्ट्रक्शन के क्रम में 84 वें स्थान पर खड़ा है. अगर प्रॉजेक्ट निर्माण के कार्यों में थोड़ी सजगता दिखाई जाए तो, ये काम समय से पहले पूरे होंगे और साथ दूसरे प्रोजेक्ट होल्डर भी इससे प्रेरणा लेंगे और देश दोगुनी उन्नति की तरफ चल पड़ेगा . ऐसी ही नयी सोच के साथ आगे आयी है एक कंपनी जो भारत के विकास में बाधक निर्माण विलम्ब की समस्या को दूर करने का बीड़ा उठा चुकी है .


infraaa


‘KEF इंफास्ट्रक्टचर’ एक ऐसी कंपनी जो निर्माण के परम्परागत तरीकों को छोड़, ऑफ साइट मैन्युफैचरिंग टेक्नोलॉजी का इस्तमाल करती है. इसके अनुसार बिल्डिंग से जुड़े सभी भाग कंपनी में तैयार किये जाते हैं और फिर उनको ले जाकर निश्चित स्थान पर सेट कर दिया जाता है  जिसमे समय के साथ-साथ पैसे की बचत भी होती हैं हालाँकि विदेशों में यह तरीका काफी समय पहले अपनाया जा चुका है लेकिन भारत में इसकी शुरुआत KEF ने की है.


kef

बेंगलुरु के इनफ़ोसिस ब्लॉक का कंस्ट्रक्शन के लिए 2 साल का समय निर्धारित किया गया था जबकि KEF ने इसको सिर्फ 8 महीने में पूरा कर दिखाया इसी प्रकार एक हॉस्पिटल के प्रॉजेक्ट लिए 205 बैड बनाने का काम सिर्फ 21 महीने में पूरा कर दिया गया जिसके लिए कोई सामान्य कॉन्ट्रेक्टर लगभग 3 साल का समय लगाता.

KEF-Infra-to-Deliver-3

कंपनी की इस तकनिकी के जरिये शिक्षा व चिकित्सा से जुड़े निर्माण कार्यों को तीव्रता से पूरा किया जा सकेगा अगर भारत की अधिकांश कंस्ट्रक्शन कंपनी इस तकनीकी को अपना ले तो न केवल हमारे घरों का सपना समय से पहले पूरा होगा बल्कि प्रगति के पथ पर बढ़ते हुए देश का भविष्य भी सुनहरा होगा..Next



Read More:

भूंकप से हिली धरती और समुद्र में समाई ट्रेन, इतिहास का सबसे बड़ा रेल हादसा

मरने के बाद बहन की शादी में आए थे ये राजा, आज 400 साल बाद भी रहते हैं हर शादी में मौजूद

बच्चे को नहीं छिपकली को जन्म दिया इस महिला ने, हो सकती है ये हैरान कर देने वाली वजह

भूंकप से हिली धरती और समुद्र में समाई ट्रेन, इतिहास का सबसे बड़ा रेल हादसा
मरने के बाद बहन की शादी में आए थे ये राजा, आज 400 साल बाद भी रहते हैं हर शादी में मौजूद
बच्चे को नहीं छिपकली को जन्म दिया इस महिला ने, हो सकती है ये हैरान कर देने वाली वजह

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग