blogid : 7629 postid : 854348

यहां अपराधियों को गुदगुदी करके टॉर्चर किया जाता है

Posted On: 20 Feb, 2015 Others में

अद्भुत दुनियारंग-बिरंगी दुनिया की अद्भुत तस्वीर और अनोखे रंग-ढंग को दर्शाता ब्लॉग

विविधा

1490 Posts

1294 Comments

गुदगुदी को आमतौर पर मौज-मस्ती करने का एक तरीका समझा जाता है. बचपन में हम अपने दोस्तों और भाई-बहनों के साथ गुदगुदी करने का खेल खेलते हैं, पर क्या आपका पता है कि हम गुदगुदी करने पर हंसते क्यों हैं? क्या आप यह जानते हैं कि गुदगुदी हमेशा हंसी मजाक के लिए ही नहीं बल्कि किसी को प्रताड़ित करने के लिए भी प्रयोग किया जाता है.


tickling10



चायनीज टिकल टॉर्चर प्राचीन चाइना में प्रताड़ित करने का एक तरीका था. टिकल टॉर्चर यानी गुदगुदी करके प्रताड़ित करने की परंपरा हेन राजतंत्र के राजाओं के दरबार में बेहद प्रचलित था. चायनीज टिकल टॉर्चर समाज में खास ओहदा रखने वाले लोगों को दी जाने वाली एक प्रकार की सजा थी, क्योंकि इससे पीड़ित को कष्ट बहुत कम देर तक होता था.


Read: अपनी शादी का ही मजाक बनाकर रख दिया !!


गुदगुदी कर प्रताड़ित करने का एक और उदाहरण प्राचीन रोम में मिलता है जिसमें किसी इंसान के पैरों को नमक के पानी में डुबाकर उन्हें एक बकरी के द्वारा जीभ से चटवाया जाता था. ऐसा करने पर शुरूआत में तो गुदगुदी का एहसास होता है पर बाद में यह काफी तकलीफदेह सिद्ध होता था.

Tickling45

अब आपको बताते हैं कि आखिर हमें गुदगुदी होती ही क्यों है और गुदगुदी के क्या सामाजिक मायने हैं. दरअसल गुदगुदी शरीर के कुछ चुनिंदा जगहों पर नरम स्पर्श करने से होती है. हमारी त्वचा के नीचे लाखों तंतुओं की शिराएं या नर्व एंडिंग होती हैं. ये तंतु शिराएं किसी भी स्फर्श की सूचना मस्तिष्क तक पहुंचाती हैं. मस्तिष्क का एक हिस्सा जिसे सोमैटोसेंसरी कॉर्टेक्स कहा जाता है, स्पर्श को पहचानता है. त्वचा के संवेदनशील रिसेप्टतो से भेजा गया संकेत मस्तिष्क के एंटिरीयर सिंगुलेटेड कॉर्टेक्स नामक हिस्से से भी गुजरता है. मस्तिष्क का हिस्सा आनंदपरक भावनाओं को नियंत्रित करता है. मस्तिष्क के ये दोनों हिस्से मिलकर गुदगुदी की संवेदना उत्पन्न करते हैं.


Read: रात का अंधेरा, सुनसान रास्ता और एक दहशत से भरा मजाक…क्या हुआ उनका जिन्होंने देखा वो खौफनाक चेहरा!!

एक और सवाल है कि हम गुदगुदी होने पर हंसते क्यो हैं? अगर क्रमिक विकास के जानकारों और मनोचिकित्सकों की मानें तो गुदगुदी होने पर हंसना यह दर्शाता है कि हम आक्रमणकारी के आगे समर्पण कर चुके हैं. आमतौर पर गुदगुदी शरीर के उन हिस्सों में अधिक होती है जिनके चोटिल होनी की संभावना सर्वाधिक होती है. क्रमिक विकास के अंतर्गत मनुष्य सामाजिक समूह में रहना सीख चुका है और इन समूहों का जो सबसे महत्वपूर्ण कार्य है वह है ज्ञान को एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी को पहुंचाना. गुदगुदी के द्वारा हम खेल-खेल में यह सीखते हैं कि हमें अपने आक्रमणकारी से अपनी रक्षा किस प्रकार करनी है.Next…



Read more:

खूबसूरत दिखने के लिए 40 वर्षों से हंसी नहीं है यह महिला

एक बच्चे की हंसी ने डॉक्टरों को भी चौंका दिया, क्या था इस खौफनाक हंसी के पीछे का सच

नरेंद्र मोदी के दावों का मजाक उड़ाते ये फैक्ट्स

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग