blogid : 7629 postid : 739196

ब्रह्मचारी नारद की साठ पत्नियां थीं! जानिए भोग-विलास में लिप्त नारद से क्यों हुए थे ब्रह्मा जी नाराज

Posted On: 8 Jul, 2015 Others में

अद्भुत दुनियारंग-बिरंगी दुनिया की अद्भुत तस्वीर और अनोखे रंग-ढंग को दर्शाता ब्लॉग

विविधा

1490 Posts

1294 Comments

नारायण-नारायण, हाथ में वीणा, गले में कंठी माला और जुबान पर नारायण का नाम जपते हुए भक्त नारायण को हम ऐसे ऋषि के रूप में देखते आए हैं जिनके मुंह पर हमेशा नारायण का नाम रहता है लेकिन फिर भी इधर-उधर की चुगली करने से बाज नहीं आते. हिन्दू धर्म के पौराणिक इतिहास में देवर्षि नारद की भूमिका बहुत ही खास रही है क्योंकि उनकी इन्हीं चुगलियों के पीछे ही छिपा था सृष्टि का रहस्य, सृष्टि के संचालन का राज. रामायण में आपने देवर्षि नारद को इधर की बातें उधर करते, दो लोगों के बीच कलह का कारण बनते देखा होगा लेकिन आज हम आपको बताएंगे नारद हर युग में मौजूद थे, बस उनके किरदार अलग-अलग थे:


Narada Muni


भोग विलास में लिप्त गंधर्व नारद से ब्रह्मा हुए रुष्ट

नारद जी पूर्व कल्प में उपबर्हण नामक गंधर्व थे जिन्हें अपने रूप पर बेहद घमंड हो गया था. गंधर्व रूपी नारद की बहुत सारी पत्नियां थीं. एक बार ब्रह्मा जी ने सभा आयोजित की जिसमें नारद जी अपनी सभी पत्नियों सहित उपस्थित थे किंतु वहां वह भगवत् भक्ति की बजाय हास-परिहास में लिप्त हो गए. इसे देख ब्रह्मा जी कुपित हुए और उन्हें शूद्र योनि में जन्म लेने का श्राप दे दिया. उसी श्राप के असर से नारद जी ने शूद्रा दासी के यहां जन्म लिया तथा संतों की निष्ठापूर्ण सेवा की जिससे उनके पाप धुल गए. उनकी साधना से प्रसन्न होकर ब्रह्मा जी ने उन्हें आशीर्वाद दिया तथा मृत्यु पश्चात वे ब्रह्मा जी के मानस पुत्र के रूप में अवतरित हुए.


Read More: भगवान श्रीकृष्ण को भी जरूरत पड़ी थी किन्नरों की, जानिए पौराणिक दस्तावेजों से किन्नरों के इतिहास की दास्तां



Lord Brahma and Narada Muni


छांदोग्य उपनिषद

नारद के होने का सबसे पहला उल्लेख छांदोग्य उपनिषद में मिलता है, जहां वह सनतकुमार नामक संत के भीतर पनप रही उदासी और अवसाद को दूर करने के लिए शिक्षा ग्रहण करने जाते हैं.  ऋषि सनतकुमार, नारद के ज्ञान की परीक्षा लेते हैं और पाते हैं कि नारद बहुत ज्यादा बुद्धिमान हैं लेकिन अपने भीतर छिपे असंतोष से मुक्ति नहीं पा पा रहे हैं. यहां नारद कोई देवर्षि नहीं बल्कि एक भटके हुए इंसान के रूप में दिखते हैं जो ज्ञान प्राप्त करने के लिए महर्षि सनतकुमार की शरण में जाते हैं.



Sanatkumara


Read More: अजीबोगरीब रहस्य में उलझे इस मंदिर में शिवलिंग के जलाभिषेक के लिए स्वयं गंगा जमीन पर आती हैं


रामायण

रामायण में भी नारायण बहुत महत्वपूर्ण किरदार में नजर आते हैं. नारद ने तीनों लोकों का भ्रमण किया हुआ था इसलिए महर्षि वाल्मीकि ने उनसे एक सवाल पूछा. वाल्मिकी ने उनसे कहा ‘हे नारद, तुम तीन लोकों का भ्रमण कर चुके हो, चारों वेद पढ़ चुके हो, इसलिए क्या तुम जानते हों इस धरती का सबसे पवित्र, धार्मिक,  प्रतापी, सत्य की राह पर चलने वाला और किसी भी तरह की ईर्ष्या की भावना से मुक्त प्राणी कौन है? वाल्मीकि के इस उत्तर का जवाब नारद ने अयोध्या के राजा राम के रूप में दिया. नारद ने महर्षि वाल्मीकि को राम की पूरी कहानी सुनाई और फिर वहां से अंतर्ध्यान हो गए.


Ramayana


महाभारत

महाभारत में जिस नारद को हम देखते हैं वो राजनीति और आचार-संहिता के स्वामी हैं. वह इंद्रप्रस्थ आकर युद्धिष्ठिर को राजनीति का पाठ पढ़ाते हैं. नारद ने ही उन्हें समझाया था कि धर्म को सिर्फ धर्म की राह पर चलकर ही बचाया जा सकता है.


Read More: जब आत्महत्या नहीं करनी थी तो क्यों वह 150 फीट गहरी खाई में कूद गया, पढ़िए एक दहलाने वाली हकीकत




Mahabharata



अन्य ग्रंथ

भगवत् पुराण में नारद को देवताओं के बीच सूचना प्रसारित करने के माध्यम के तौर पर दर्शाया गया है. नारद ने कभी शादी तो नहीं की थी लेकिन कहा जाता है उनकी 60 पत्नियां हैं. इतना ही नहीं उन्हें पृथ्वी के पहले पत्रकार के तौर पर भी जाना जाता है.

Read More:

कैसे जन्मीं भगवान शंकर की बहन और उनसे क्यों परेशान हुईं मां पार्वती

मां दुर्गा के मस्तक से जन्म लेने वाली महाकाली के काले रंग का क्या है रहस्य?

अभिमन्यु की दुल्हन बनी थीं राधारानी, इस अध्यात्मिक सच से जरूर रूबरू होना चाहेंगे आप

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग