blogid : 7629 postid : 1114717

भारत का पहला मिसाइलमैन पहनता था 'राम' नाम की अंगूठी !

Posted On: 13 Nov, 2015 Others में

अद्भुत दुनियारंग-बिरंगी दुनिया की अद्भुत तस्वीर और अनोखे रंग-ढंग को दर्शाता ब्लॉग

विविधा

1490 Posts

1294 Comments

टीपू सुल्तान को लेकर सियासत कितनी गरमाई हुई है ये बात किसी से छुपी हुई नहीं है. आलम ये है कि जो लोग कुछ दिनों पहले टीपू सुल्तान के बारे में कुछ जानते तक नहीं थे. वो आज उनके बारे में जानकारी जुटाने में लगे हुए हैं. आपके मन में भी टीपू सुल्तान से जुड़े हुए सवाल रह-रहकर उठते होंगे. आइए हम आपको बताते हैं टीपू सुल्तान से जुड़ी हुई कुछ दिलचस्प बातें. टीपू सुल्तान का जन्म 20 नवम्बर 1750 को कर्नाटक के देवनाहल्ली हुआ था. उनका पूरा नाम सुल्तान फतेह अली खान शाहाब था. उनके पिता का नाम हैदर अली और माता का नाम फ़क़रुन्निसा था. उनके पिता मैसूर साम्राज्य के एक सैनिक थे. जो अपनी ताकत से 1761 मे मैसूर साम्राज्य के शासक बने.


ring

Read : हुनर और मेहनत को नहीं रोक सकता कोई, गोतिपुआ से जुड़े किशोर हैं एक नई मिसाल


टीपू को मैसूर के शेर के रूप में जाना जाता है. योग्य शासक के अलावा टीपू एक विद्वान, कुशल सैनिक और कवि भी थे. कहते हैं टीपू सुल्तान उन दिनों तकनीक से बेहद प्रभावित थे. नए-2 अविष्कारों और वैज्ञानिकों के प्रति उनके मन में विशेष प्रकार का आदर भाव था. भारत के मिसाइल प्रोजेक्ट के जनक एपीजे अब्दुल कलाम ने अपनी किताब ‘विंग्स ऑफ़ फ़ायर’ में लिखा है कि उन्होंने नासा के एक सेंटर में टीपू की सेना की रॉकेट वाली पेंटिग देखी थी. लंदन के मशहूर साइंस म्यूज़ियम में टीपू के कुछ रॉकेट आज भी देखे जा सकते हैं. ये उन रॉकेट में से थे जिन्हें अंग्रेज़ अपने साथ 18वीं सदी के अंत में ले गए थे. इसके बारे में कलाम लिखते हैं, ‘मुझे ये लगा कि धरती के दूसरे सिरे पर युद्ध में सबसे पहले इस्तेमाल हुए रॉकेट और उनका इस्तेमाल करने वाले सुल्तान की दूरदृष्टि का जश्न मनाया जा रहा था. वहीं हमारे देश में लोग ये बात या तो जानते नहीं या उसको तवज्जो नहीं देते.’


ring 2


Read : महज 1,100 मीटर की दूरी पर है इस गांव का सूरज


वहीं दूसरी तरफ आज बेशक इस बात पर बहस छिड़ी हो कि टीपू सुल्तान सांप्रदायिक थे या नहीं. लेकिन ऐसा कहा जाता है कि वो भगवान राम के व्यक्तित्व से खासे प्रभावित थे. वहीं दूसरी तरफ राम नाम अंकित एक नायाब अंगूठी को लेकर एक और विवाद सामने आता दिख रहा है. पिछले दिनों टीपू सुल्तान की सोने की अंगूठी लंदन में नीलाम कर दी गई जिस पर ‘राम’ लिखा था. क्रिस्टीज़ नीलामी घर ने सोने की इस अंगूठी को एक लाख 45 हजार पाउंड में बेचा. मुसलमान राजा टीपू सुल्तान की ये अंगूठी खास इसलिए है कि क्योंकि इस पर राम का नाम लिखा है.


ring 3


Read : सोने के प्रति लगाव रखने वालों के लिए खास है यह सोना

टीपू सुल्तान को भारत में ब्रिटिश शासन से लोहा लेने के लिए जाना जाता है. माना जाता है कि उनकी मौत के बाद एक ब्रिटिश जनरल ने ये अंगूठी उनके शव से निकाल ली थी.क्रिस्टी की वेबसाइट के अनुसार, 41 ग्राम की ये अंगूठी अनुमानित मूल्य से दस गुना ज्यादा कीमत पर सेंट्रल लंदन में नीलाम की गई. इसके खरीददार की पहचान उजागर नहीं की गई. आरोप है कि ये अंगूठी उनके मृत शरीर से तब निकाली गई थी, जब वे 1799 में श्रीरंगापट्टनम की लड़ाई में ईस्ट इंडिया कंपनी की सेना के हाथों मारे गए थे. हैरानी की बात है कि एक महान मुस्लिम योद्धा राजा हिन्दू भगवान के नाम की अंगूठी पहनता था. हालांकि इस बात का कोई पुख्ता प्रमाण अभी तक नहीं मिला है…Next

Read more :

त्वचा नहीं निखरने पर मर्द ने किया केस, मर्दों वाली क्रीम की कम्पनी पर 15 लाख का जुर्माना

वैज्ञानिक का दावा रोबोट के साथ यौन संबंध बनाना होगा संभव

1998 विश्वकप का यह स्टार क्रिकेटर आज है भैंस चराने को मजबूर

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग