blogid : 7629 postid : 1101868

वायसराय की कार पूरी स्पीड में थी लेकिन इस भारतीय पहलवान ने आगे बढ़ने ही नहीं दिया

Posted On: 24 Sep, 2015 Others में

अद्भुत दुनियारंग-बिरंगी दुनिया की अद्भुत तस्वीर और अनोखे रंग-ढंग को दर्शाता ब्लॉग

विविधा

1490 Posts

1294 Comments

उस समय भारत के वायसराय थे लॉर्ड मिंटो. उस दौर में भारत के एक पहलवान राममूर्ति नायडू की ताकत के काफी चर्चे थे. जब राममूर्ति की ताकत के बारे में मिंटो को पता चला तो उन्होंने राममूर्ति की परीक्षा लेनी चाही. मिंटो को अपनी कार के शक्तिशाली इंजन पर बहुत भरोसा था. राममूर्ति ने लॉर्ड मिंटो की कार को पीछे से चेन बांधकर पकड़ा और मिंटो ने पूरी स्पीड से कार को आगे बढ़ाने की कोशिश की, लेकिन मिंटो की तमाम कोशिश के बाद भी उनकी कार एक इंच भी आगे नहीं बढ़ सकी. राममूर्ति वह भारतीय पहलवान थे जिन्हें इंग्लैंड के राजा और महारानी ने ‘भारतीय हर्क्युलीज’ की उपाधी दी थी. इन्हे कलयुग का भीम भी कहा जाता था.


indian-hercules-


सांड को उसकी सींग पकड़कर असानी से पटक देने वाले राममू्र्ति का जन्म मौजूदा आंध्र प्रदेश के वीरघट्टम गांव में अप्रैल, 1882 में हुआ था. राममुर्ति का मन पढ़ाई में तो नहीं लगता था लेकिन उन्हें कुश्ती का इस कदर चश्का लगा कि राममूर्ति के चाचा ने उन्हें प्रफेशनल ट्रेनिंग के लिए मद्रास भेज दिया. कुछ ही वक्त में क्षेत्र भर में राममूर्ति के बल और साहस के कसीदे पढ़े जाने लगे. एक प्रफेशनल पहलवान बनकर लौटे राममूर्ति ने एक स्थानीय कॉलेज में इंस्ट्रक्टर की नौकरी पकड़ ली. नौकरी के साथ राममूर्ति ने अपना शक्ति प्रदर्शन भी किया करते थे.


Read: इस अपराजित भारतीय पहलवान के डर से रिंग छोड़ भागा विश्व विजेता


उन्होने अपना पहला पब्लिक शो 1911 में किया. राममुर्ति ने अपने हाथों के मसल पर लोहे की जंजीर बांधी और फिर अपनी मांसपेशियों को कड़ा करके लोहे की चैन को तोड़ दिया. उनके हुनर को देख वहां मौजूद सरकारी महकमे के लोग अवाक रह गए.  राममुर्ति अपने छाती पर लकड़ी का फट्टा रखते जिसपर से हाथी चल कर गुजर जाती. यह दृश्य देख लोग दांतो तले उंगली दबा लिया करते पर राममुर्ति का बाल भी बांका नहीं होता.



Bust_of_Gobar_Goho



राममूर्ति ने कॉंग्रेस की मीडिंग में भी अपनी ताकत का प्रदर्शन किया था जिससे प्रभावित होकर पं. मदन मोहन मालवीय ने उन्हें ब्रिटेन के राजा और महारानी के सामने अपनी शक्ति दिखाने को कहा था. राममूर्ति ने अपनी एक सर्कस कंपनी खोली थी.



indian-hercules-header-1442831742_980x457



देश-विदेश में उनका सर्कस खूब विख्यात हुआ और राममूर्ति ने खूब दौलत कमाई लेकिन यह जानकर आप हैरानी रह जाएंगे कि उन्होंने अपनी कमाई हुई अधिकांश दौलत भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के लिए दान कर दी. Next…


Read more:

ग्यारह वर्ष का पहलवान !!

बढ़ते वजन से परेशान रहने वाली यह लड़की बनी तीन साल में बॉडीबिल्डर चैंपियन

शरीर से लकवाग्रस्त और जीता तीन बार मिस्टर इंडिया का खिताब

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग