blogid : 7629 postid : 1227491

भारत में इस जगह पर हुई टूटते तारे से होने वाली पहली मौत!

Posted On: 21 Aug, 2016 Others में

अद्भुत दुनियारंग-बिरंगी दुनिया की अद्भुत तस्वीर और अनोखे रंग-ढंग को दर्शाता ब्लॉग

विविधा

1490 Posts

1294 Comments

“ज़िन्दगी और मौत तो ऊपर वाले वाले के हाथ है जाँहपनाह, कब कौन कहाँ उठेगा कोई नहीं जानता “. इन्ही पंक्तियों की सत्यता पर आधारित एक व्यक्ति की मृत्यु बड़े विचित्र तरह से हुई है. दुनियां में पहली बार किसी इंसान की मौत एक उल्कापिंड यानी टूटते तारे की वजह से हुई है.


तमिलनाडु में हुई बस ड्राइवर मौत

तमिलनाडु में घटी इस घटना में एक ड्राइवर की मौत हो गयी और 3 लोग गंभीर रूप से घायल हुए थे. सूत्रों के अनुसार भारत के दक्षिणी राज्य ‘तमिलनाडु’ में एक बस ड्राइवर कॉलेज कैंपस के पास पानी पी रहा था और अचानक एक उल्कापिंड के गिरने से उसकी मौत हो गयी.


ulka

4 फ़ीट गहरा गड्ढा हुआ

‘भारथीदसन इंजीनियरिंग कॉलेज’ के प्रिंसिपल के अनुसार “लगभग दोपहर 12 :30 का समय था , अचनाक कुछ फटने की बहुत तेज आवाज़ हुई. एक पल को लगा कही कोई बम फट गया,  बाहर जाकर देखा तो हमारे कैंपस में कैफेट एरिया के पास किसी अनजान वस्तु के कारण 4 फ़ीट गहरा गड्ढा हो गया है. जाँच के बाद पता चला यह अनदेखी वस्तु ‘मेटेओर’ (उल्कापिंड ) थी.


meteor-master


Read: मंगल मिशन के इस प्रमुख वैज्ञानिक का एक और अवतार


आवाज़ 3 किलोमीटर दूर तक सुनाई दी

मौके पर मौजूद कुछ लोगों ने एक विचित्र चीज़ को धरती की तरफ बढ़ते हुए देखा,  जैसे ही यह ज़मीन से टकरायी बहुत तेज धमाका हुआ जिसकी आवाज़ 3 किलोमीटर दूर तक सुनाई दी और आस – पास खड़ी गाड़ियों और क्लासरूम्स की खिड़कियों के शीशे चूर-चूर हो गए. स्कूल में काम कर रहे दो माली और एक स्टूडेंट भी इसकी वजह से गंभीर रूप से घायल हो गए.


killed


मौत उल्कापिंड के कारण हुई

तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता ने इस तथ्य की पुष्टि करते हुए कहा कि ” कॉलेज कैंपस में मारे गए ड्राइवर ‘कामराज’ की मौत वहाँ गिरे उल्कापिंड के कारण हुई है और सहानुभूति जताते हुए मृतक के परिवार को 1,00,000 तथा घायलों को 25,000 रूपये की आर्थिक मदद की घोषणा की.


jay


वैज्ञानिक नहीं जता रहे हैं सहमित

हालाँकि वैज्ञानिक पूरी तरह से इस तथ्य से सहमत नहीं है. उनके अनुसार किसी छोटे कॉमेट के फटने के कारण किसी इंसान की मौत होने की बहुत कम सम्भावना होती है. बहुत सारे उल्कापिंड पृथ्वी पर पहुँचने से पहले ही नष्ट  हो जाते हैं और अगर यह बात वैज्ञानिक रूप से सिद्ध होती है, तो यह दुनिया के इतिहास में कॉमेट से होने वाली पहली मौत होगी. दरअसल नासा के मुताबिक अभी तक उल्कापिंड से मरने वाले का कोई रिकॉर्ड नहीं है...Next


Read More:

यहां मिला 2000 साल पुराना मक्खन, रहस्य सुलझाने के लिए जुटे वैज्ञानिक

वैज्ञानिकों के लिए रहस्य है इस राजा की मौत, एक्स-रे के लिए तीन बार निकाला गया कब्र से

यहां बहता है खून का झरना, वैज्ञानिक भी इसका रहस्य जानकर रह गए हैरान

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग