blogid : 7629 postid : 1109404

जब 31 साल के इस युवक ने बना डाली हवा उड़ने वाली नाव - देखें वीडियो

Posted On: 21 Oct, 2015 Others में

अद्भुत दुनियारंग-बिरंगी दुनिया की अद्भुत तस्वीर और अनोखे रंग-ढंग को दर्शाता ब्लॉग

विविधा

1490 Posts

1294 Comments

किसी कॉमिक्स के हवा में उड़ने वाले पात्र हो या शक्तिमान से लेकर हनुमानजी हो, सभी पात्र बाल मन को बहुत भाते हैं. विज्ञान तेजी से बदल रहा है, ऐसे में यदि कोई तकनीक आ जाए जिससे लोग शक्तिमान की तरह हवा में उड़ने लगे तो कोई आश्चर्य नहीं होगा. जी हाँ, अब आप खुश हो जाइए, क्योंकि वह दिन दूर नहीं जब इंसान अकेले हवा में उड़ेगा. हाल ही में कुछ वैज्ञानिकों की टीम ने इस दिशा में काम करना शुरू कर दिया है. मॉन्ट्रियल के एक व्यक्ति ने उड़ने वाली नाव को बनाने में पहली कामयाबी हासिल कर ली है.


hoverboard


विज्ञान की तरक्की और आविष्कार ने हमेशा इंसानों को चौकाया है. अब इस उड़ने वाली नाव को ही देखिए… हो गए न हैरान. ऐसा आपने केवल फिल्मों में ही देखा होगा. अब इस नाव को विकसित किया जा रहा है. कैटेलिन डुरू एलेक्जेंडर नाम के इस शख्‍स ने पानी के ऊपर देर तक उड़ान भरने वाली हवरबोर्ड के टेस्ट उड़ान को पूरा किया है. इस पुरे परीक्षण का वीडियो भी बनाया गया है. सोशल मीडिया पर इस वीडियो के आते ही लोगों ने खूब पसंद किया है.


देखें वीडियो:


इससे पहले भी कैटेलिन डुरू एलेक्जेंडर 1.5 मिनट तक ‘उड़ने वाली नाव’ चलाने का वर्ल्ड रिकॉर्ड बना चुके हैं. उस समय एलेक्जेंडर ने झील से 5 मीटर ऊपर करीब 1.5 मिनट तक उड़ान भरी थी. 31 साल के एलेक्जेंडर ने पहली सफलता के बाद हवरबोर्ड के नेक्स्ट जेनरेशन मॉडल पर काम करना शुरू कर दिया. वह और उनकी कंपनी ओमनी हॉवरबोर्ड्स ने नेक्स्ट जेनरेशनल डिवाइस के बारे में जानकारी गुप्त ही रखी है. वीडियो देखने के बाद ऐसा प्रतीत होता है कि यह परीक्षण प्राथमिक स्तर पर सफल रहा.


Read: कमाल कर दिया भारत ने विज्ञान के क्षेत्र में


एलेक्जेंडर पेशे से एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं. पहली बार जब यह वीडियो यूट्यूब पर आया तो कुछ ही देर में वायरल हो गया. एलेक्जेंडर ने बताया कि यह आइडिया तब आया जब उन्होंने देखा कि काफी हाई पॉवर मोटर हमारे पास मौजूद हैं, जिनका इस्तेमाल किया जा सकता है. 1.5 मिनट तक उड़ान भरने के लिए उनका नाम गिनीज रिकॉर्ड में भी दर्ज किया जा चुका है..Next…





Read more:

इन चीजों का हुआ अविष्कार और देखते-देखते बदल गए आप

हिरोशिमा और नागासाकी से भी पहले हुआ था परमाणु अस्त्रों का प्रयोग. जाने कहां और कैसे…

विज्ञान ने भी माना धरती पर जन्में थे भगवान राम !


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग