blogid : 7629 postid : 775223

उन चारों ने एक ही समय पर आत्महत्या की, लोग कहते हैं उन्हें किसी ने हिप्नोटाइज किया था... पढ़िए विज्ञान की एक अनसुलझी पहेली

Posted On: 22 Aug, 2014 Others में

अद्भुत दुनियारंग-बिरंगी दुनिया की अद्भुत तस्वीर और अनोखे रंग-ढंग को दर्शाता ब्लॉग

विविधा

1490 Posts

1294 Comments

एक समय पहले जब विज्ञान और तर्कशास्त्र जैसे विषयों तक सामान्य जनता की पहुंच नहीं थी तब तक हर क्रिया को चमत्कार ही समझा जाता था. लेकिन अब विज्ञान के आविष्कारों और स्थापनाओं ने चमत्कार के सिद्धांत को पूरी तरह नकार दिया है और यह साबित कर दिया है कि सूरज के चमकने से लेकर पृथ्वी पर होने वाली हर हलचल, यहां तक कि इंसानी जीवन से जुड़ी हर छोटी-बड़ी घटना के तार विज्ञान के साथ जुड़े हैं ना कि चमत्कार के साथ.



telepathy

विज्ञान के आविष्कार ने हमारे जीवन को सहज बना दिया है और इसके कई फायदे भी हैं लेकिन हर सिक्के के दो पहलू होते हैं और विज्ञान भी इन सबसे बच नहीं पाया है. टेलिपैथी, विज्ञान की ही एक विधा है, जिसके अंतर्गत शारीरिक रूप से एक दूसरे से मीलों दूर बैठे लोग भी मानसिक रूप से एक दूसरे तक संदेश पहुंचा सकते हैं. टेलिपैथी की सहायता से आप किसी भी व्यक्ति को अपने अनुसार कार्य करने के लिए प्रेरित कर सकते हैं और सबसे खास बात है कि आप दोनों की बात किसी तीसरे के कानों तक नहीं पहुंचेगी.


Read: लोग उन्हें पागल कहते थे लेकिन हकीकत कोई नहीं जानता था….पढ़िए आत्माओं से बात करने वाली तीन बहनों का हैरतंगेज सच


टेलिपैथी के फायदे बहुत हैं लेकिन आज हम आपको इस विधा से जुड़ी एक ऐसी घटना से अवगत करवाने जा रहे हैं जब तुर्की के चार इंजीनियरों ने आत्महत्या कर ली थी और आश्चर्यजनक रूप से इन चारों ही आत्महत्याओं का कारण टेलिपैथी को बताया गया.



telepathy

संदिग्ध रूप से हुई इन चारों आत्महत्याओं की जब जांच-पड़ताल शुरू हुई तो इनके पीछे का कारण टेलिपैथी को पाया गया. ऐसा माना गया कि किसी ने इन चारों इंजीनियरों को टेलिपैथी के जरिए पहले अपने वश में किया और फिर बाद में उन्हें आत्महत्या करने के लिए उकसाया. इनपर टेलिपैथी का प्रयोग इतना असरदार था कि वह अपने कानों में गूंजने वाली आवाज को अनसुना नहीं कर पाए और बिना सोचे-समझे मौत को गले लगा लिया.




यह घटना 2006-2007 की है लेकिन टेलिपैथी के प्रयोग के किस्से पुराणों में भी पढ़े जाते हैं, जहां बिना किसी यंत्र के सिर्फ विचारों के संप्रेषण के जरिए ही अपनी बात दूसरों तक पहुंचाई जाती थी. पहले इसे चमत्कातर का नाम दिया जाता था लेकिन अब यह स्पष्ट रूप से विज्ञान का ही एक नमूना साबित हुई है. आपको बता दें कि टेलिपैथी में मनुष्य शरीर की पांचों इन्द्रियों का कोई भी प्रयोग नहीं किया जाता बल्कि छठी इन्द्री को विकसित कर टेलिपैथी का उपयोग किया जाता है जो किसी भी रूप में आसान नहीं है.


telepathy


भारत में टेलिपैथी की विधा बहुत पुरानी है, हमारे शास्त्रों में इसका जिक्र मिलता है लेकिन आधुनिक युग में टेलिपैथी को जन सामान्य तक पहुंचाने का श्रेय फ्रेड्रिक डब्ल्यू एच मायर्स को जाता है जिन्होंने वर्ष 1882 में विचार संप्रेषण की इस विधा को जन टेलिपैथी का नाम दिया.


Read: इसे मासूम कहेंगे या दरिंदा…..इंसान की कटी खोपड़ी के साथ ऐसी हैवानियत


आपको शायद यह जानकर आश्चर्य होगा कि कछुआ इकलौता ऐसा जीव है जिसे इस विधा में महारत हासिल है, मादा कछुआ अपने अंडों से मीलों दूर से भी संपर्क साध सकती है इतना ही नहीं जब अंडों में से बच्चे निकलने का समय नजदीक आने लगता है तो वह अपने बच्चों के पास चली जाती है. सबसे हैरान कर देने वाली बात यह है कि मादा कछुआ को अगर कुछ हो जाए तो अंडों में मौजूद उसके बच्चे भी मर जाते हैं.



Read More:


क्या रहस्य है काला लिबास पहनकर सड़कों पर घूमती उस औरत का…कोई प्रेत कहता है कोई पैगंबर!!

अगर मुझसे शादी करनी है तो तुम्हें मुझे बाथरूम ले जाना होगा, नहलाना होगा… मंजूर है? एक अनोखा लव प्रपोजल…

मौत के 94 वर्षों बाद आज भी अपनी कब्र में वो पलके झपकाती है….एक रहस्यमय हकीकत जिसपर यकीन करना मुश्किल है

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग