blogid : 7629 postid : 1184071

नकाब के साथ दफन हुआ यह कैदी ! जानें क्या है वजह

Posted On: 31 May, 2016 Others में

अद्भुत दुनियारंग-बिरंगी दुनिया की अद्भुत तस्वीर और अनोखे रंग-ढंग को दर्शाता ब्लॉग

विविधा

1490 Posts

1294 Comments

यह किस्सा है एक ऐसे कैदी का जिसके चेहरे पर से नकाब कभी नहीं उतरा. पूरे 34 साल की कैद के बाद वह अपनी मृत्यु के बाद ही जेल से रिहा हो सका. मृत्यु के बाद उसके शरीर को तो जेल से रिहाई मिल गई लेकिन उसकी पहचान को नकाब से कभी भी रिहाई नहीं मिल सकी. इस रहस्यमई कैदी को कब्र में भी नकाब के साथ ही दफन किया गया.

फ्रांस के इतिहास का न सिर्फ यूरोप के बल्कि पूरे विश्व के इतिहास की दिशा तय करने में महत्वपूर्ण योगदान रहा है. इसी फ्रांस के इतिहास का एक अध्याय ऐसा है जो आजतक रहस्य बना हुआ है. विश्वभर में फ्रांस के इतिहास के इस पहलू पर इतना लिखा और कहा जा चुका है कि यह अपने आप में एक किंवदंती बन चुका है.


Man-in-the-Iron-Mask1



नकाब हटाते ही गोली मारने का था आदेश

फ्रांस के मशहूर सम्राट लुई चौदहवें के शासनकाल में मृत्यु को प्राप्त हुआ वह नकाबपोश कैदी आखिर कौन था? इस रहस्यमयी व्यक्ति के मृत्यु के तुरंत बाद फ्रांस के एक राजकुमार ने अंग्रेजी दरबार के अपने एक मित्र को यह पत्र लिखा था, “कई वर्षों से एक आदमी बास्तील के जेल में नकाब पहनकर रह रहा था, इसी हालत में उसकी मृत्यु हो गई. दो बंदूकधारी रक्षक हमेशा उसकी निगरानी में रहते थे ताकि वह कभी अपना नकाब न निकाल सके. नकाब हटाने पर उसे तत्काल गोली मार देने का आदेश था. नकाब लगाए रखने के अलावा उसे और किसी प्रकार की यातना नहीं दी जाती थी. उसके निवास और भोजन का अच्छा प्रबंध था और उसी सुविधा के अनुसार उसे रखा जाता था. अभी तक किसी को जानकारी नहीं हो सकी है कि वह कौन था”



Iron-Mask1


खुद सम्राट ही था वह नकाबपोश कैदी?

यानी इस कैदी को इतने रहस्यमई तरीके से रखा गया था कि राजपरिवार के लोगों को भी इसकी पहचान नहीं थी. प्रख्यात फ्रेंच उपन्यासकार अलेक्जेंडर ड्यूमा ने इस घटना से प्रेरेणा लेकर अपना प्रसिद्ध उपन्यास ‘द मैन इन द आयरन मास्क’ लिखा. इस उपन्यास में उसने यह संभावना प्रकट की थी कि वह रहस्यपूर्ण कैदी स्वयं सम्राट लुई होगा, जिसे उसके जुड़वा भाई ने इस सम्मानित कैद में डाल दिया और स्वयं राजा बन बैठा. पर यह उपन्यासकार की महज कल्पना मात्र सी लगती है क्योंकि लुई का कोई जुड़वा भाई था, ऐसा कोई साक्ष्य मौजूद नहीं है.


या था सम्राट का नजायज पिता?

ज्यादातर इतिहासकार इस बात पर सहमत हैं कि यह रहस्यमई कैदी लुई 14वें का जैविक पिता था. प्रख्यात राजनीतिज्ञ एवं विद्वान लॉर्ड क्विकजोट ने अपने शोध के आधार पर यह निष्कर्ष निकाला था. उनके अनुसार लुई चौदहवें के वैधानिक पिता लुई 13वें और उसकी रानी ऐन को जब संतान न हुई तो फ्रांस के सर्वोच्च धर्माध्यक्ष तथा राजा के प्रथम मंत्री कार्डिनल.डी. रिचुल को राज्य के उत्तराधिकारी की फिक्र हुई. उस समय फ्रांस की तत्कालीन राजनीतिक और सामाजिक स्थिति ऐसी थी कि राजपरिवार, सामंत और धनी वर्ग के लोग किसी भी प्रकार की सामाजिक वर्जना से दूर, निर्भय होकर एक से अधिक स्त्रियों से यौन संबंध बनाए रखते थे.


लुई तेरहवें के पिता की कई नजायज संताने समाज में अपना स्थान बनाकर पेरिस में रह रही थी. ऐसे ही एक शाही रक्त वाले व्यक्ति को रिचेल ने रानी से नियोग के लिए चुना. तत्कालीन परिस्थितियों के मद्देनजर रानी एनी के पास उस व्यक्ति से संबंध बनाने के अलावा और कोई विकल्प नहीं था.  1638 ई. में रानी के गर्भ से एक पुत्र का जन्म हुआ जो आगे चलकर लुई 14वां बना.

लुई चौदहवां जब कुछ बड़ा हुआ तो लोग काना-फूसी करने लगे कि शिशु राजकुमार अपने वैधानिक पिता लुई तेरहवें से भिन्न है. उनकी मुखारकृति में भी पर्याप्त अंतर था. कयास लगाया जाता है कि लुई चौदहवें के असली पिता को लुई के जन्म के बाद कानडा भेज दिया गया था. ताकि राजपरिवार का भेद सुरक्षित रहे. कुछ वर्षों बाद जब लुई राजा हुआ तो वह फ्रांस लौट आया इस उम्मीद में कि अपने पुत्र की कृपा से वह सुखपूर्वक जीवन व्यतीत कर सके


क्यों नहीं करवा दी उसकी हत्या?

जब यह व्यक्ति पेरिस पहुंचा तो राजा के जन्म को लेकर अफवाहें फैलने लगी. इस व्यक्ति की मुखाकृति लुई 14वें से मिलता जुलता था जिसे लेकर कई तरह की बाते होने लगी. इस व्यक्ति के कारण राज्य में अशांति होने लगी इसका एक ही समाधान था कि इस व्यक्ति को मरवा दिया जाए पर लुई इतना क्रूर नहीं हो सका कि वह अपने पिता को मार डाले. इसलिए इस व्यक्ति को कारागार में डाल दिया गया और संसार के दृष्टि से हटाने के लिए इसे हमेशा-हमेशा के लिए नाकाब पहने रहने का आदेश सुना दिया गया. इस कैदी को मृत्यु के बाद भी उस मखमली नाकाब में ही दफनाया गया जिसे वह ताउम्र पहने रखा था. जेल के रिकॉर्डों में उसका नाम था, यूस्ताश डॉगर- एक दास.Next


Read More:

ये हैं दुनिया की सबसे खूबसूरत जेलें जहां कैदियों की हर सहुलियत का रखा जाता है ख्याल

विश्व का सबसे अनोखा जेल, यहां आने वालों को मिलता है लजीज भोजन

अब इस जेल में आप भी गुजार सकते हैं रातें


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग