blogid : 7629 postid : 758518

पृथ्वी का सबसे सत्यवादी इंसान कैसे बना सबसे बड़ा झूठा व्यक्ति? पढ़िए महाभारत की हैरान करने वाली हकीकत

Posted On: 11 Jul, 2015 Others में

अद्भुत दुनियारंग-बिरंगी दुनिया की अद्भुत तस्वीर और अनोखे रंग-ढंग को दर्शाता ब्लॉग

विविधा

1490 Posts

1294 Comments

महाभारत में हर किरदार अपने आप में अनोखा और अद्वितीय है. एक तरफ जहां अर्जुन और कर्ण को विश्व का सबसे बड़ा धनुर्धर माना जाता है तो वहीं भीम को गदाधारी और धर्मराज युधिष्ठिर को भाले में निपुण माना गया है. वैसे युधिष्ठिर में एक और योग्यता थी कि वह विश्व के सबसे बड़े सत्यवादी थे. वह अपनी सत्यवादिता एवं धार्मिक आचरण के लिए विख्यात रहे हैं, लेकिन इतने बड़े सत्य निष्ठावादी होने के बावजूद भी युधिष्ठिर झूठे कैसे बन गए?



mahabharata

दरअसरल बात युद्ध के दिनों की है जब भीष्म पितामह की तरह गुरु द्रोणाचार्य भी पाण्डवों के विजय में सबसे बड़ी बाधा बनते जा रहे थे. श्रीकृष्ण जानते थे कि गुरु द्रोण के जीवित रहते पाण्डवों की विजय असम्भव है. इसलिए श्रीकृष्ण ने एक योजना बनाई जिसके तहत महाबली भीम ने युद्ध में अश्वत्थामा नाम के एक हाथी का वध कर दिया था. यह हाथी मालव नरेश इन्द्रवर्मा का था.


mahabharata

द्रोणाचार्य के पुत्र का नाम भी अश्वत्थामा था और यह भी निश्चित था कि अपने पुत्र से प्रेम करने के कारण द्रोणाचार्य अश्वत्थामा की मृत्यु का समाचार सुनकर स्वयं भी प्राण त्याग देंगे.

mahabharata


इसलिए अश्वत्थामा हाथी के मृत्यु के बाद योजना के तहत जब यह समाचार भीम द्वारा द्रोणाचार्य को बताया गया तो पहले उन्हें यकीन नहीं हुआ, लेकिन यही बात जब उन्होंने कभी झूठ न बोलने वाले सत्यवादी युधिष्ठिर से पूछा तो युधिष्ठिर ने भी अपने तरीके से हां कह दिया.


Read: महाभारत युद्ध में अपने ही पुत्र के हाथों मारे गए अर्जुन को किसने किया पुनर्जीवित? महाभारत की एक अनसुनी महान प्रेम-कहानी


द्रोणाचार्य ने पूछा “युधिष्ठिर! क्या यह सत्य है कि मेरा पुत्र अश्वत्थामा मारा गया?” युधिष्ठिर ने कहा- “अश्वत्थामा हतोहतः, नरो वा कुञ्जरोवा”, अर्थात “अश्वत्थामा मारा गया, परंतु मनुष्य नहीं पशु.” युधिष्ठिर ने ‘नरो वा कुञ्जरोवा’ अत्यंत धीमे स्वर में कहा था और इसी समय श्रीकृष्ण ने भी शंख बजा दिया, जिस कारण द्रोणाचार्य युधिष्ठिर द्वारा कहे गए अंतिम शब्द नहीं सुन पाए. उन्होंने अस्त्र-शस्त्र त्याग दिए और समाधिष्ट होकर बैठ गए. इस अवसर का लाभ उठाकर द्रौपदी के भाई धृष्टद्युम्न ने उनका सर धड़ से अलग कर दिया.


Read More:

ब्रह्म हत्या के पाप में भगवान विष्णु को किसने दिया था श्राप और कैसे हुए वो मुक्त, जानिए विष्णु के सबसे प्राचीन मंदिर के पीछे की हकीकत

जिन्दा लोगों को पत्थर बना दिया, जानिए कैसे बनी एक आर्टिस्ट की ये अद्भुत पेंटिंग

अद्भुत है ग्यारवीं शताब्दी में बने इस सूर्य मंदिर का रहस्य

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 3.83 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग