blogid : 7629 postid : 920251

विदेश में लाखों का पैकेज छोड़ ये मॉडल हुआ सेना में शामिल

Posted On: 26 Jun, 2015 Others में

अद्भुत दुनियारंग-बिरंगी दुनिया की अद्भुत तस्वीर और अनोखे रंग-ढंग को दर्शाता ब्लॉग

विविधा

1490 Posts

1294 Comments

मातृभूमि की सेवा से बढ़कर इस जगत में दूसरा कोई और सेवा नहीं है. जब 121 करोड़ से भी अधिक भारतीय अपने परिवार के साथ घरों में रहते हैं, तो हिन्दुस्तान के वीर सपूत दिन-रात सरहदों की रक्षा कर रहे होते हैं. हर सैनिक की यह तमन्ना होती है कि अपने वतन की रक्षा करते-करते मौत को गले लगा ले. इसी जज्बे के साथ हरियाणा के रोहतक से सूर्य दहिया ने अपनी शानों-शौकत भरी जिन्दगी को छोड़ भारतीय सेना में भर्ती होना बेहरत समझा.


c1



हरियाणा के रोहतक निवासी सूर्य दहिया ने देश प्रेम का अनोखा उदाहरण समाज के सामने पेश किया है. सूर्य के पिता नरेश दहिया व दादा नफे सिंह भारतीय नौसेना में रह चुके हैं. उन्होंने दो-दो लड़ाईयां लड़ी है. चुकी दादा और पिता नौसेना में थे इसलिए सूर्य को घर में शुरू से ही देशभक्ति का माहौल मिला.

Read: पुलिस अधिकारी को नीचा क्या दिखाया, मंत्री साहब पद से हटा दिए गए



surya



अपनी पढ़ाई पूरी कर सूर्य ने कुछ दिनों तक मॉडलिंग किया फिर एमबीए कर विदेश में लाखों के पैकेज पर काम भी किया. लेकिन सूर्य के बचपन में देशभक्ति का बोया बिज अब अंकुरित हो रहा था. तब सूर्य ने सबकुछ छोड़ देश भक्ति  में खुद को समर्पित कर दिया. रोहतक सेक्टर-तीन निवासी प्राध्यापिका सुनीता रानी के बेटे सूर्य दहिया ने सेना में अधिकारी बनकर परिजनों का नाम ही नहीं पुरे इलाके का नाम रोशन किया है. सूर्य भारतीय थल सेना में डेढ़ साल की ट्रेनिंग के बाद स्पेशल कमीशंड ऑफिसर के तौर पर देश सेवा कर रहें है.



indo



सूर्य के पिता नरेश दहिया बेटे की सफलता पर बेहद खुश हैं. उन्होंने बेटे के बारे में बताया कि विदेश की नौकरी छोड़कर सूर्य ने भारतीय सेना में शामिल होने का लक्ष्य चुना. सूर्य ने ट्रेनिंग के दौरान भी सबसे अव्वल रहा है. ट्रेनिंग में हर बैच से तीन कैडेट्स को विदेश ले जाया जाता है. सूर्य को इन कैडेट्स में शामिल होकर इंडोनेशिया जाने का मौका मिला. सूर्य को 122 इंजीनियर्स आरईजीटी भठिंडा में पोस्टिंग मिली है.


Read: महिला बनने के लिए इस सैनिक ने कराई सर्जरी, बनी पहली ट्रांसजेंडर अधिकारी

सूर्य अपने गांव के 1971 की जंग में परमवीर चक्र विजेता कर्नल होशियार सिंह को अपना आदर्श मानता है. सूर्य की प्रारंभिक शिक्षा आईबी स्कूल रोहतक में हुई है. इसके बाद सूर्य ने बहादुरगढ़ के पीडीएम कॉलेज से बीटेक और दिल्ली के फोर स्कूल ऑफ मैनेजमेंट से एमबीए की. पढ़ाई के दौरान सूर्य को मॉडलिंग के क्षेत्र में भी जाने का मौका मिला. एमबीए पूरा करते ही फ्रांस की नामी कंपनी में अच्छे पैकेज मिला और वहां चले गए.Next…



Read more:

सगे चाचा के यौन शोषण के बावजूद कैसे बनी भारत की पहली ट्रांसजेंडर अधिकारी

तब नहीं घुस पाए थे मोदी के इस गांव में औरंगज़ेब के सैनिक

वो था सितंबर विवेकानंद का… ये है सितंबर नरेन्द्र मोदी का

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग