blogid : 7629 postid : 892485

दुनिया में इस भाषा को बोलने वाले सिर्फ 2 लोग ही बचे हैं

Posted On: 26 May, 2015 Others में

अद्भुत दुनियारंग-बिरंगी दुनिया की अद्भुत तस्वीर और अनोखे रंग-ढंग को दर्शाता ब्लॉग

विविधा

1490 Posts

1294 Comments

सामी भाषाएँ उत्तरी यूरोप में उत्तरी फिनलैंड, स्वीडन, नॉर्वे और सुदूर पश्चिमोत्तरी रूस में बोली जाने वाली यूराली भाषाओं का एक समूह है. इन भाषाओं को बोलने वाले लोग यूरोप में ‘लैप्प’ के नाम से जाने जाते हैं. वर्तमान में ‘लैप्प’ शब्द का प्रयोग करना अपमानजनक माना जाता है इसलिए लोग इन्हें ‘सामी’ ही कहते हैं. इन भाषाओं में उत्तरी सामी बोलने वालों की संख्या सबसे ज्यादा 75 फीसदी है. उत्तरी सामी भाषा के अलावा यूरोप में दक्षिणी सामी, उमे सामी, पीते सामी,  लूले सामी, स्कोल्त सामी, इनारी सामी, किलदीन सामी, और तेर सामी जैसी भाषाएं बोली जाती है.


samiladies


तेर सामी भाषा बोलने वालो की संख्या दुनिया में सबसे कम है. आज मात्र दो ही लोग इस भाषा का इस्तेमाल बोलने में करते हैं. 2004 में कोला प्रायद्वीप के पूर्वोत्तर भाग में बोली जाने वाली इस भाषा को केवल 10 लोग बोलते थे जो 2010 में घटकर इसकी संख्या 2 हो गई.


Read: मात्र सात महीने में पढ़ डाली 364 किताबें, उम्र जानकर रह जाएंगे हैरान


19वीं सदी के अंत में कोला प्रायद्वीप के पूर्वी भाग में छह टेर ‘सामी गांव’ थे जहां की कुल जनसंख्या तकरीबन 450 थी. धीरे-धीरे यह भाषा हाशिए पर चली गयी और 2010 आते-आते इस भाषा के इस्तेमाल करने वालों की संख्या 2 रह गई. लगातार घटती इसकी संख्या के पीछे की मुख्य वजह जोसेफ स्टालिन की सोवियत सामूहिकीकरण नीति थी. उस दौरान घरों और स्कूलों में इस भाषा का इस्तेमाल नहीं किया जाता था.


आज की बात की जाए तो तेर सामी भाषा में न तो कोई शिक्षण सामग्री है और न ही इस भाषा का कोई मानक रूप. इस भाषा से संबंधित दस्तावेज जैसे टेक्स्ट नमूने, ऑडियो और शब्दकोश अधूरे हैं. यही नहीं इस भाषा से संबंधित कोई व्याकरण विवरण भी उपलब्ध नहीं है. तेर भाषा से संबंधित शब्दावली 1557 में ब्रिटिश अन्वेषक स्टीफन बुरॉफ ने एकत्र किए थे जिसे बाद में रिचर्ड हाकल्यूट द्वारा प्रकाशित किया गया था….Next


Read more:

11 साल के बच्चे ने आइंस्टीन और हॉकिंस को आईक्यू के मामले में पछाड़ दिया

मात्र 95 रूपये है इस मकान की कीमत

600 करोड़ रुपए कमाने वाली फिल्म ‘पीके’ से सुशांत को फीस के तौर पर मिले मात्र 21 रुपए


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग