blogid : 7629 postid : 1294001

मरने के बाद बहन की शादी में आए थे ये राजा, आज 400 साल बाद भी रहते हैं हर शादी में मौजूद

Posted On: 17 Nov, 2016 Others में

अद्भुत दुनियारंग-बिरंगी दुनिया की अद्भुत तस्वीर और अनोखे रंग-ढंग को दर्शाता ब्लॉग

विविधा

1490 Posts

1294 Comments

बुंदेलखंड में वैसे तो कई लोक देवियां और देवता हैं लेकिन उनमें से एक हैं लाला हरदौल. हरदौल की शौर्य गाथा को बयां करते कई नाट्य मंडल गांवों में अपनी प्रस्तुतियां देते हैं. लोक देवता के रूप में लाला हरदौल इतने पूज्य हैं कि बुंदेलखंड में किसी लड़की का विवाह हो तो पहला न्यौता लाला हरदौल को ही जाता है. आपको जानकर हैरानी कि लाला हरदौल एक वीर योद्धा थे जिनकी कहानियां बेहद मशहूर थी.


ccvv

कौन थे लाला हरदौल

मध्य प्रदेश के टीकमगढ जिले का ओरछा कस्बा बुंदेलखंड़ में धार्मिक प्रदेश के तौर पर जाना जाता है. यहां के महाराजा वीर सिंह के सबसे छोटे बेटे ‘हरदौल’ की वीरता और ब्रह्मचर्य के किस्से हर बुंदेली की जुबां पर हैं. महाराजा वीर सिंह के आठ पुत्र थे, जिनमें सबसे बड़े का नाम जुझार सिंह व सबसे छोटे हरदौल थे.



hardolll


भाई बना जान का दुश्मन

जब अपना ही जान का दुश्मन बन बैठे तो भगवान भी कुछ नहीं कर सकता. ऐसा ही कुछ हुआ था हरदौल के साथ. जुझार सिंह अपने भाई हरदौल से इस बात से नाराज रहते थे क्योंकि उनकी पत्नी हरदौल का खास ख्याल रखती थी और यही बात जुझार को पंसद नहीं पाई और उसने अपने ही भाई के लिए मौत का जाल बिछा दिया.


hardol


कैसे हुई थी हरदौल की मौत

जुझार सिंह अपनी पत्नी और हरदौल के रिश्ते से नाखुश था जिस वजह से उसने एक दिन अपनी पत्नी को आदेश दिया  कि वो भोजन में विष मिला कर लाला हरदौल को खिला दें. यह सुनकर रानी हैरान हो गईं. लेकिन उन्हें खुद को पतिव्रता साबित करना थे ऐसे में उन्होंंने वैसा ही किया, जिस वजह से हरदौल की मृत्यु महज 23 साल में ही गई.


rja hardol


Read: वैज्ञानिकों के लिए रहस्य है इस राजा की मौत, एक्स-रे के लिए तीन बार निकाला गया कब्र से


भाई के श्मशान गई बहन

जुझार की बहन कुंजावती, जो दतिया के राजा रणजीत सिंह को ब्याही थी, अपनी बेटी के ब्याह में भाई जुझार से जब भात मांगने गई तो उसने यह कहकर दुत्कार दिया क्योंकि वह हरदौल से ज्यादा स्नेह करती थी. श्मशान में जाकर उसी से भात मांगे. कुंजाबाई रोती हुई श्मशान जाकर भाई हरदौल को याद करने रोनी लगी. कहा जाता है कि श्मशान से आवाज आई थी कि, ‘हरदौल भात लेकर जरूर आएगा’.

hardol1



भांजी की शादी में आए मृत राजा हरदौल

बहन की पुकार पर खुद राजा हरदौल भात लेकर आए थे. कुंजाबाई के दामाद के बहुत जोर देने पर उन्होंने खुद को लोगों के सामने प्रकट किया था. इसी चमत्कार के बाद से यहां पर भव्य मन्दिर का निर्माण कराया गया और लोग राजा हरदौल को ‘देव’ रूप में पूजने लगे.


king hardol


‘हरदौल चबूतरे’ का हुआ निर्माण

बहन की शादी में इस तरह आने के बाद से ही वहां के लोगों ने ‘हरदौल चबूतरे’ का निर्माण कराया. ‘शादी-विवाह हो या यज्ञ-अनुष्ठानों का भंड़ारा, लोग सबसे पहले चबूतरों में जाकर राजा हरदौल को आमंत्रित करते हैं, उन्हें निमंत्रण देने से भंड़ारे में कोई कमी नहीं आती’…Next


Read More:

इस देश का राजा है यह व्यक्ति, पका रहा है सबके लिए खाना
दुनिया की सबसे महंगी कार से भारतीय राजा ने उठवाया कचरा, लिया अपने अपमान का बदला
रेलवे लाइन बिछाने के लिए इस राजा ने दिया था अंग्रेजो को 1 करोड़ कर्ज, इंजन को खींचकर लाए थे हाथी

इस देश का राजा है यह व्यक्ति, पका रहा है सबके लिए खाना

दुनिया की सबसे महंगी कार से भारतीय राजा ने उठवाया कचरा, लिया अपने अपमान का बदला

रेलवे लाइन बिछाने के लिए इस राजा ने दिया था अंग्रेजो को 1 करोड़ कर्ज, इंजन को खींचकर लाए थे हाथी


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग