blogid : 7629 postid : 793463

एक हाथ में लोटा और एक हाथ में धोती थामे व्यक्ति के पत्र ने कराई थी रेलगाड़ी में शौचालय की व्यवस्था

Posted On: 11 Oct, 2014 Others में

अद्भुत दुनियारंग-बिरंगी दुनिया की अद्भुत तस्वीर और अनोखे रंग-ढंग को दर्शाता ब्लॉग

विविधा

1490 Posts

1294 Comments

कहते हैं हड़बड़ी का काम गड़बड़ी का परंतु, ऐसा नहीं है. समय की हड़बड़ी और किसी की गड़बड़ी कभी सार्वजनिक परिवहन के स्तर को सुधारने में मददगार साबित हुई है.


बात तब की है जब भारतीय रेलवे में शौचालय नहीं हुआ करते थे. उस समय लोग प्राकृतिक बुलावा आने पर किस मुश्किल में पड़ जाते होंगे इसका अंदाज़ा लगाया जा सकता है. ऐसे ही वर्ष 1906 में अहमदपुर स्टेशन से गुजरते वक्त एक रेलगाड़ी में हुआ कुछ ऐसा कि उसके बाद भारतीय रेलगाड़ियों में शौचालय की व्यवस्था की शुरूआत हुई.


Railway Feature


Read more: जब आग लगी है तो दूर तलक जाएगी, कुछ इसी तरह इस दिन भारत में स्वतंत्रता की चिंगारी छिड़की थी, जानिए कब!!!


हुआ यह कि रेलगाड़ी के अहमदपुर स्टेशन पर रूकते ही एक नियमित यात्री शौच के लिए नीचे उतरा. अभी वो शौच से निवृत्त भी नहीं हो पाया था कि गार्ड ने रेलगाड़ी चलाने के लिए सीटी बजा दी. इससे शौच पर बैठा वह यात्री हड़बड़ा गया. एक हाथ में लोटा उठा और दूजे में जैसे-तैसे धोती पकड़ वो बेतहाशा दौड़ने लगा. गाड़ी आगे-आगे और वो गाड़ी के पीछे-पीछे. पटरी पर रेलगाड़ी दौड़ रही थी और प्लेटफॉर्म पर वो कर्मचारी. तभी उसकी धोती लटपटाई और वो औंधे मुँह प्लेटफॉर्म पर गिर पड़ा.


train tt


Read more: यह वो महिलाएं हैं जिन्होंने ना केवल अपने क्षेत्र में पहली बार कदम रखा बल्कि अपनी प्रतिभा से भारत की दिशा ही बदल डाली


वहाँ खड़ी भीड़ में से कुछ उसे देख रहे थे और कुछ उसकी दशा पर मुसकुरा रहे थे. उसे शर्मिंदगी महसूस हुई. उसने संबंधित अधिकारियों को एक पत्र लिखा जिसमें उसने अपनी दुर्गति का ज़िक्र किया. इसके अलावा उसने उस पत्र में लिखा कि क्या रेलगाड़ी के गार्ड को मेरे शौच से आने तक प्रतीक्षा नहीं करनी चाहिए थी. इसलिए उस गार्ड पर बड़ा जुर्माना ठोंका जाना चाहिए, नहीं तो मैं समाचारपत्र में बड़ी रिपोर्ट छपवाऊँगा.


अंग्रेज़ी में लिखा उसका यह पत्र आप खुद पढ़ें…

junctioin file


Read more:

गांधी के साथ हिटलर ने दिलवाई थी भारत को आजादी !!!


कुछ इस तरह किसानों ने सिखाया रिश्वतखोरों को सबक


पैसा, बंगला, गाड़ी… इनमें से कुछ नहीं मिलता फिर भी क्यों किसी तख्त पर बैठने से कम नहीं है ‘भारत रत्न’ कहलाना


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग