blogid : 7629 postid : 766572

नमाज पढ़ने के पीछे छिपे हैं कई अद्भुत रहस्य...जानना चाहते हैं क्यों हर मुसलमान के लिए नमाज पढ़ना जरूरी है?

Posted On: 25 Jul, 2014 Others में

अद्भुत दुनियारंग-बिरंगी दुनिया की अद्भुत तस्वीर और अनोखे रंग-ढंग को दर्शाता ब्लॉग

विविधा

1490 Posts

1294 Comments

रमजान का मुबारक महीना है और जल्द ही ईद का चांद भी नजर आने वाला है. भारत जोकि एक धर्मनिरपेक्ष देश है वहां हर त्यौहार मनाने का मजा भी कुछ अलग ही होता है. रमजान की रौनक बाजारों में खूब नजर आ रही है और सभी मुस्लिम धर्म के अनुयायी रोजे के बाद अब ईद का इंतजार कर रहे हैं. रमजान के इस महीने को अल्लाह की तरफ से ईनाम लेने के महीने के रूप में भी जाना जाता है.

islam


जिस तरह हर धर्म की मान्यताएं, उसका पालन करने के तरीके अलग-अलग होते हैं वैसे ही इस्लाम की भी अपनी कुछ विशेषताएं हैं. आज हम आपको नमाज पढ़ने से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां देने जा रहे हैं जिन्हें जानने के बाद आब इस्लाम धर्म को और करीब से समझ पाएंगे:


namaaj

इस्लाम धर्म के अनुयायी नमाज पढ़ने की महत्ता को भली प्रकार समझते हैं. नमाज, सलाह या सलात का जिक्र कुरान शरीफ में बार-बार किया गया है और इस्लाम धर्म से जुड़े प्रत्येक महिला और पुरुष को दिन में 5 वक्त की नमाज पढ़ने का हुक्म दिया कुरान शरीफ में सलात शब्द बार-बार आया है और प्रत्येक मुसलमान स्त्री और पुरुष को नमाज पढ़ने का आदेश दिया है. नमाज पढ़ना प्रत्येक मुसलमान को कर्तव्य के रूप में दिया गया है, जिसे पुण्य और पाप के साथ भी जोड़ा गया है.


muslims


Read: पूर्वजों की खुशी के लिए ये क्या कीमत चुकाई इस 9 साल के बच्चे ने…पढ़िए एक शादी की हैरतंगेज हकीकत


नमाज को दिन में 5 बार पढ़ने का विधान है, जिसमें नमाज -ए- फजर (सूर्योदय से पूर्व), नमाज-ए-जुह्ल (सूर्य के ढलना शुरु होने पर), नमाज-ए-अस्र (सूर्य के अस्त होने के थोड़ी देर पहले), नमाज-ए-मगरिब (सूर्यास्त के तुरंत बाद), नमाज-ए-अशा (सूर्यास्त के डेढ़ घंटे बाद पढ़ी), शामिल है.


namaj

इस्लाम में पांच मौलिक स्तंभ भी बताए गए हैं, जिनमें कलिमा-ए-तयैबा, नमाज, रोजा, जकात और हज शामिल है.


muslim


नमाज पढ़ने के पीछे एक बहुत बड़ा और सामाजिक कारण भी है, क्योंकि नमाज पढ़ने वाला व्यक्ति कभी किसी के साथ गलत नहीं करता और किसी के पैसे पर नजर नहीं रखता. कायदे के अनुसार हर नमाज को इतनी शिद्दत से अदा करना चाहिए जैसे कि वो जीवन की आखिरी नमाज हो.




Read More:

मरने के बाद वो फिर लौट आए….पढ़िए ऐसे लोगों की कहानी जिन्होंने मरने के बाद भी मौत को गले नहीं लगाया

उसने कहा “मैं तुम्हारे 100वें जन्मदिन पर तुमसे शादी करूंगी”..और दीवानों की तरह वह उस दिन का इंतजार करता रहा. एक रोमांचक लव स्टोरी

यह महिला जब मुंह खोलती है तो बन जाता है रिकॉर्ड



Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (8 votes, average: 4.13 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग