blogid : 355 postid : 244

गालिब की शायरी और गजलें

Posted On: 11 Feb, 2011 Bollywood में

थोडा हल्का - जरा हटके (हास्य वयंग्य )Shayri, jokes, chutkale and much more...

jack

248 Posts

1194 Comments

इश्क का सप्ताह शुरु हो गया है और जागरण जंक्शन पर तो जैसे इश्क का भूत सवार हो गया है. लोगों को प्यार के अलावा और कुछ दिखाई ही नहीं दे रहा. हमने सोचा हम भी प्यार की आग बढ़ाएंगे और सबको दिखा देंगे कि ओल्ड इज गोल्ड होता है. समझे कि नहीं समझे. हम किसलिए है फिर. देखिए प्यार की नई-नई परिभाषाएं तो सब दे रहे हैं लेकिन कई सालों पहले मिर्ज़ा गालिब ने भी प्यार की राह में चंद शेर लिखे थे जो वाकई प्रेम-रस में सराबोर थे. आप भी आज मजा लीजिए इन शायरी और गजलों का:


रोने से और इश्क़ में बेबाक हो गए

धोए गए हम ऐसे कि बस पाक हो गए ॥


Read: मैं जिससे प्यार करता हूं…


सर्फ़-ए-बहा-ए-मै हुए आलात-ए-मैकशी

थे ये ही दो हिसाब सो यों पाक हो गए ॥


रुसवा-ए-दहर गो हुए आवार्गी से तुम

बारे तबीयतों के तो चालाक हो गए ॥


कहता है कौन नाला-ए-बुलबुल को बेअसर

पर्दे में गुल के लाख जिगर चाक हो गए ॥


पूछे है क्या वजूद-ओ-अदम अहल-ए-शौक़ का

आप अपनी आग से ख़स-ओ-ख़ाशाक हो गए ॥


करने गये थे उस से तग़ाफ़ुल का हम गिला

की एक् ही निगाह कि बस ख़ाक हो गए ॥


इस रंग से उठाई कल उस ने ‘असद’ की नाश

दुश्मन भी जिस को देख के ग़मनाक हो गए ॥


वैसे यह तो गालिब की शायरी का एक पहलू है और अगर इसका नया वर्जन देखना है तो वीडियो देखिए. नए वर्जन से मतलब है गालिब की गजलों की रीमिक्स.. देखिए और मजा लीजिए.



Read More:

रोमांटिक अंदाज में लें छुट्टियों का मजा

आपकी पत्नी आपसे क्या चाहती है?

क्या आपको आपकी प्रेमिका से सच्चा प्यार है ?


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 2.67 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग