blogid : 355 postid : 297

नए जमाने के बच्चे : जरुर-जरुर पढ़ें हा हा !

Posted On: 16 Mar, 2011 Others में

थोडा हल्का - जरा हटके (हास्य वयंग्य )Shayri, jokes, chutkale and much more...

jack

248 Posts

1194 Comments

आजकल के बच्चे कितने प्यारे और नादान होते हैं इसका एक नजारा इस लेख में देख लीजिए. आज जमाना बहुत बदल गया है कल तक नाना-नानी की कहानी सुनने वाले बच्चे अब टीवी की कहानी देख बड़े हो रहे हैं. फिल्में तो बहुत दूर की बात है आजकल कार्टून में भी हमें कैरेक्टरों को प्यार करते नजर आते हैं. जिस उम्र में बच्चों को रामायण देखनी चाहिए उस उम्र में बच्चे मिकी माउस और मिनी का प्यार देखते हैं. चलिए आप भी देखिए आजकल के बच्चों की हंसी की फुलझड़ी.



Small-Kids-Mannequins11 वर्षीय रोहन और उसके पड़ोस में रहने वाली 10 सलोनी को साथ-साथ खेलते हुए यह एहसास हो जाता है कि वे एक-दूसरे से बेहद प्यार करते हैं, और उन्हें शादी कर लेनी चाहिए…



रोहन सलोनी के पिता के पास पहुंच जाता है, और हिम्मत जुटाकर कह डालता है, “मिश्रा अंकल, मैं और आपकी बेटी सलोनी एक-दूसरे से प्यार करते हैं, और मैं आपसे शादी के लिए उसका हाथ मांगने आया हूं…”



मिश्रा जी को नन्हे शरारती रोहन की हरकत बेहद प्यारी लगती है और वह डांटने के बजाए मुस्कुराते हुए रोहन से पूछते हैं, “यार, तुम अभी सिर्फ 11 साल के हो, और तुम्हारे पास घर भी नहीं है… तुम और सलोनी रहोगे कहां…?”



रोहन तपाक से कहता है, “सलोनी के कमरे में, क्योंकि वह मेरे कमरे से बड़ा है, और वहां हम दोनों के लिए ज़्यादा जगह है…”



मिश्रा जी को अब भी रोहन की इस मासूमियत पर प्यार आता है, और वह फिर पूछते हैं, “ठीक है… लेकिन तुम लोग गुज़ारा कैसे चलाओगे… आखिर इस उम्र में तुम्हें नौकरी तो मिल नहीं सकती…?”



रोहन फिर बहुत शांत स्वर में जवाब देता है, “हमारा जेबखर्च है न… उसे 100 रुपये प्रति सप्ताह मिलता है, और मुझे 150 रुपये प्रति सप्ताह… इस हिसाब से हम दोनों के लगभग 1000 रुपये हर महीने मिल जाता है, जो हमारी ज़रूरतों के लिए काफी रहेगा…”



मिश्रा जी इस बात से भौंचक्के रह जाते हैं कि रोहन ने इस विषय पर इतनी गंभीरता से और इतनी आगे तक सोच रखा है…



सो, वह सोचने लगते हैं कि ऐसा क्या कहें कि रोहन को जवाब न सूझे, और उसे इस उम्र में सलोनी से शादी न करने के लिए समझाया जा सके…



कुछ देर बाद वह फिर मुस्कुराते हुए रोहन से सवाल करते हैं, “यह बहुत अच्छी बात है बेटे कि तुमने इतनी अच्छी तरह सब प्लान किया हुआ है, लेकिन यह बताओ, कि अगर तुम दोनों के बच्चे हो गए, तो क्या यह जेब खर्च कम नहीं पड़ेगा…?”



रोहन ने इस बार भी तपाक से जवाब दिया, “अंकल, हम बेवकूफ नहीं हैं… जब आज तक नहीं होने दिया, तो आगे भी ……….”

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग