blogid : 355 postid : 961

सूरदास के दोहे: Surdas ke Dohe in Hindi without meaning

Posted On: 18 Dec, 2012 Others में

थोडा हल्का - जरा हटके (हास्य वयंग्य )Shayri, jokes, chutkale and much more...

jack

248 Posts

1194 Comments

अंखियां हरि-दरसन की प्यासी।

देख्यौ चाहति कमलनैन कौ¸ निसि-दिन रहति उदासी।।

आए ऊधै फिरि गए आंगन¸ डारि गए गर फांसी।

केसरि तिलक मोतिन की माला¸ वृन्दावन के बासी।।

काहू के मन को कोउ न जानत¸ लोगन के मन हांसी।

सूरदास प्रभु तुम्हरे दरस कौ¸ करवत लैहौं कासी।।

—————————————————————————————————————-

निसिदिन बरसत नैन हमारे।

सदा रहत पावस ऋतु हम पर, जबते स्याम सिधारे।।

अंजन थिर न रहत अँखियन में, कर कपोल भये कारे।

कंचुकि-पट सूखत नहिं कबहुँ, उर बिच बहत पनारे॥

आँसू सलिल भये पग थाके, बहे जात सित तारे।

‘सूरदास’ अब डूबत है ब्रज, काहे न लेत उबारे॥

—————————————————————————————————————-

मधुकर! स्याम हमारे चोर।

मन हरि लियो सांवरी सूरत¸ चितै नयन की कोर।।

पकरयो तेहि हिरदय उर-अंतर प्रेम-प्रीत के जोर।

गए छुड़ाय छोरि सब बंधन दे गए हंसनि अंकोर।।

सोबत तें हम उचकी परी हैं दूत मिल्यो मोहिं भोर।

सूर¸ स्याम मुसकाहि मेरो सर्वस सै गए नंद किसोर।।

—————————————————————————————————————-

बिनु गोपाल बैरिन भई कुंजैं।

तब ये लता लगति अति सीतल¸ अब भई विषम ज्वाल की पुंजैं।

बृथा बहति जमुना¸ खग बोलत¸ बृथा कमल फूलैं अलि गुंजैं।

पवन¸ पानी¸ धनसार¸ संजीवनि दधिसुत किरनभानु भई भुंजैं।

ये ऊधो कहियो माधव सों¸ बिरह करद करि मारत लुंजैं।

सूरदास प्रभु को मग जोवत¸ अंखियां भई बरन ज्यौं गुजैं।

—————————————————————————————————————-

प्रीति करि काहू सुख न लह्यो।

प्रीति पतंग करी दीपक सों आपै प्रान दह्यो।।

अलिसुत प्रीति करी जलसुत सों¸ संपति हाथ गह्यो।

सारंग प्रीति करी जो नाद सों¸ सन्मुख बान सह्यो।।

हम जो प्रीति करी माधव सों¸ चलत न कछू कह्यो।

‘सूरदास’ प्रभु बिन दुख दूनो¸ नैननि नीर बह्यो।


Surdas ke dohe, Surdas ke dohe in Hindi, Hindi Surdas, Surdas ke pad, Surdas ke pad in Hindi

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (123 votes, average: 4.10 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग