blogid : 24142 postid : 1324636

सिर्फ़ तेरे प्यार ने बनाया हैं मुझको !

Posted On: 13 Apr, 2017 Others में

शब्द बहुत कुछ कह जाते हैं...कुछ हक़ीकत से रूबरू...कुछ मन की गुफ्तगू...

JITENDRA HANUMAN PRASAD AGARWAL

49 Posts

48 Comments

1) आज अगर मैं, जितना भी काबिल बना हूँ
तो सिर्फ़ तेरे प्यार ने बनाया हैं मुझको !

2) एक वक्त वो भी था और एक ये आज हैं
ज़मीं से फलक तक, तेरा प्यार ही लाया मुझको !

3) रहता था बिखरा बिखरा, बेकार सामान की तरह
समेटकर अपने हाथों से, फूलों सा सजाया मुझको !

4) चलने लगा जब भी मैं, अंजान रास्तों की तरफ
हाथ पकड़कर तूने मेरा, रास्ता सही दिखाया मुझको !

5) रिश्तों की अहमियत से बेख़बर था मैं
होता हैं प्यार क्या, तूने ही सिखाया मुझको !

6) नही था मैं तो, ठीक से चलने के भी काबिल
तेरे सहारे ने लेकिन, आसमान में उड़ाया मुझको !

7) उतना ही ज़्यादा प्यार मिला तुमसे मुझे
जितना भी ज़्यादा, लोगो ने सताया मुझको !

8) पाया जब भी कभी, तन्हा मैने खुद को
एक तेरा ही साया पीछे मेरे, नज़र आया मुझको !

9) जब भी किया कभी रुसवा, जमाने ने मुझे
लबों की मुस्कुराहट ने तेरी, खूब हंसाया मुझको !

10) ना थी खबर, ना था ठिकाना अपना मुझे
हर एक अदा ने तेरी, खुद से ही चुराया मुझको !

11) तेरे ख्वाबों का साथ था, जब भी मैं सोया था
कदमों की आहट ने ही तेरी, नींद से जगाया मुझको !

12) देखे ना मुझे कोई और भी तेरे सिवा
आँचल में अपने, यूँ कस के छुपाया मुझको !

13) ना निकाल पाए मुझे, कोई चाहे भी अगर
दिल में कुछ इस तरह, तूने बसाया मुझको !

14) लगता हैं कभी कभी, मेरे दिल को ये
कि खुदा ने तेरे लिए ही, ख़ास बनाया मुझको !

15) मेरे दिल का कोना कोना रोशन किया तुमने
खवाबों की रोशनी देकर, अंधेरे से बचाया मुझको !

16) ये बारिश भी कुछ बेअसर सी लगती हैं मुझे
चाहत की बारिश में तूने, जब से नहलाया मुझको !

17) लोग तो झूलते हैं, लकड़ी के झूले में अक्सर
तुमने तो अपनी आँखों के, झूले में झूलाया मुझको !

18) चुना जो भी रास्ता, चलने की खातिर मैने
पर हर रास्ता तेरी ओर, खींच लाया मुझको !

19) होती नही बर्दाशत, एक पल की नाराज़गी तेरी
रोज बात करने का रोग, तूने ही लगाया मुझको !

20) कोई भाता नही मेरे दिल को तेरे सिवा
तेरे प्यार में अपना ही लगता हैं, पराया मुझको !

21) सजदा करता हूँ उस खुदा का दिन रात मैं
जिनकी रहमत से, “जीत” ने हैं पाया तुझको !

जितेंद्र अग्रवाल “जीत”

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग