blogid : 2623 postid : 751665

ये है मेरा बिहार ?

Posted On: 1 Feb, 2015 Others में

RAJESH _ REPORTERअब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल अब तो हाथों में कोई तेज कटारी रखिये

jagojagobharat

169 Posts

304 Comments

बिहार एक बार फिर से चर्चा में है चर्चा होनी भी चाहिए क्योकि समाजवाद के दो तथाकथित पुरोधाओं का मिलन होने वाला है ताकि राष्ट्रवाद को कमजोर कर सत्ता की मलाई चख सके .हलाकि इस मिलन की पठकथा लोकसभा चुनाव के बाद ही जब नितीश कुमार ने हार को स्वीकार कर जीतन राम मांझी को मुख्य मंत्री बनाया लिखी जा चुकी थी लेकिन सब के अपने अपने दावों की वजह से तारीखे बदलती गई और विलय का दिन आगे बढ़ता गया लेकिन विलय से पूर्व इन आठ महीनो के राजनितिक सरगर्मियॉ की चर्चा यहाँ आवश्यक है की कैसे एक बनते उभरते बिहार को जंगल राज -२ में परिवर्तित कर दिया गया सिर्फ और सिर्फ निजी महत्वाकांक्षा और स्वार्थ की खातिर ? सत्रह वर्षो के भाजपा जनता दल यूनाइटेड गठबंधन के दौरान जितनी भी उपलब्धिया बिहार ने बटोरी थी सब के सब स्वार्थ की बलिवेदी पर चढ़ा दिए गए वो भी समाजवाद और लोहिया वाद के नाम पर और जीतन राम मांझी को बिहार का मुख्य मंत्री बना कर कुर्शी पर बिठा दिया गया जो बिहार सकल घरेलु उत्पाद और अन्य क्षेत्रो में उच्य पद पर आसीन था वो देखते देखते धरासाई हो गया जिसका खामियाजा बिहार की जनता को उठाना पड़ रहा है स्वास्थ्य व्यवस्था पेय जल व्यवस्था हो या फिर कानून व्यवस्था सब के सब आज निचले पायदान पर खड़े है .नौ वर्षो के भाजपा जनता दाल यूनाइटेड की सरकार में जो विधि व्यवस्था सुचारू रूप से चल रही थी और बिहारियों में गौरव का अहसाश जगा था वो समाप्त हो गया अब तो बिहार में एक बार फिर हत्या अपहरण लूट बलात्कार चरम पर है उसपर मुख्य मंत्री जी के बयानों की बात ही निराली अनर्गल बयान बाजी ने समाचार चनेलो को भले ही टी आर पी दी लेकिन सभ्य समाज इनके अनर्गल बयान बाजी से आजिज आ चूका है और इनके कुर्शी से उतरने की बाट जोह रहा है इन आठ महीनो में मुख्य मंत्री ने जो बयान बाजी की उसका खामियाजा आने वाली पीढ़ियों को उठाना पड़ेगा क्योकि जिन नक्सलियों से हमारे सेना के जवान आये दिन लोहा लेते आ रहे है उसी को कभी भाई भतीजा तो कभी योद्धा बता कर मांझी के द्वारा महिमा मंडित किया जा रहा है और तो और मुख्य मंत्री ने अब दलित मुख्य मंत्री का कार्ड खेल कर पूर्व मुख्य मंत्री नितीश कुमार के रातो की नींद भी उड़ा दी है उसपर राजद जे डीयू विलय में भी अड़चन पैदा कर इनके समर्थको द्वारा की जा रही बयान बाजी और कुर्शी की लड़ाई से बिहार में सत्ता पक्ष ने विपक्ष को मजबूत हथियार दे दिया है जिसकी वजह से एक बार फिर बिहार में जंगल राज -२ की पुनरावृति से जनता त्राहिमाम कर रही है .

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग