blogid : 133 postid : 527

कायर नेतृत्व का परिणाम नक्सल आतंकवाद

Posted On: 29 May, 2010 Others में

संपादकीय ब्लॉगजन-जीवन को प्रभावित करने वाले मुद्दे, राष्ट्र की आकांक्षाओं को मूर्त रूप देने वाले विचार, संवेदना की धरातल पर विमर्श की गुंजाइश को जनम देता ब्लॉग

Editorial Blog

422 Posts

640 Comments

गत कई आलेखों से यह लगातार कहा जा रहा है कि अब और इंतजार नहीं बल्कि कुचल के रख देना चाहिए देश के दुश्मनों को. अकर्मण्य सरकारों के कान पर जूं भी नहीं रेंग रही है. ये सरकारें निर्दोष नागरिकों की अभी और कितनी बलि लेंगी कुछ नहीं कहा जा सकता. हावड़ा-कुर्ला लोकमान्य तिलक ज्ञानेश्वरी सुपर डीलक्स एक्सप्रेस पर माओवादियों का हमला इस बात का स्पष्ट प्रमाण है कि देश में आस्तीन के सांप पाले जा रहे हैं जो अंततः देश को ही खा जाएंगे.

 

पाकिस्तान आज जिस प्रकार स्वयं के द्वारा रचे गए आतंकियों का शिकार हो रहा है और अभी कल वहां के मस्जिदों पर हुए हमले में तमाम नागरिक मारे गए ठीक वही हाल भारत का हो रहा है.

 

अभी तक नक्सलियों को आतंकी करार देने में कायर नेता भ्रम पैदा करते रहे हैं. कोई उन्हें आदिवासी और गरीब समर्थक बताता है और कोई कहता है कि वे क्रांतिकारी हैं और व्यवस्था के खिलाफ हैं.

 

हाल ही में दंतेवाडा में नागरिकों से भरे बस पर हुए नक्सलियों के हमले के बाद लालू प्रसाद यादव ने कहा कि नक्सली पुलिस के मुखबिरों को मारते हैं जैसे यह बड़ी अच्छी बात हो. हैरत तो ये होती है कि देश ऐसे नेताओ को अभी तक बर्दाश्त कैसे कर रहा है? ऐसे नेताओं ने ही देश में अराजक तत्वों का हौसला बढ़ा रखा है.

 

अब भी वक्त है कि बिना किसी बहस के तुरंत सेना को आदेश दिया जाए और अविलम्ब सभी नक्सलियों और उनके समर्थकों को समाप्त कर दिया जाए. वैसे भी बहुत देर हो चुकी है कहीं ऐसा ना हो कि देश की निर्दोष जनता अपने नेताओं के कायराना रुख की वजह से ऐसे नक्सली आतंकियों की गुलाम बन अपनी इज्जत-आबरू सहित जान भी गँवा बैठे.

 

देखें इससे सम्बंधित अन्य ब्लॉग

नक्सलियों के अविलंब सफाए की जरूरत

 

क्रूर दमन ही एकमात्र विकल्प

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 3.67 out of 5)
Loading...

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग