blogid : 133 postid : 720

हिंदू आतंकवाद का हौवा

Posted On: 21 Jul, 2010 Others में

संपादकीय ब्लॉगजन-जीवन को प्रभावित करने वाले मुद्दे, राष्ट्र की आकांक्षाओं को मूर्त रूप देने वाले विचार, संवेदना की धरातल पर विमर्श की गुंजाइश को जनम देता ब्लॉग

Editorial Blog

422 Posts

640 Comments

मालेगाव बम धमाके के सिलसिले में पकड़े गए कथित हिंदू आतंकवादियों-साध्वी प्रज्ञा ठाकुर और कर्नल पुरोहित के खिलाफ सबूतों का अभाव और लश्करे-तैयबा के आतंकवादी डेविड हेडली के खुलासों से सेकुलर राजनीति की वीभत्सता सत्यापित होती है। यह घटनाक्रम इस कटु सत्य को भी रेखाकित करता है कि राष्ट्रहित वोटबैंक की राजनीति के आगे गौण है। मालेगाव बम धमाके में हिंदू संगठन का नाम आने के बाद से ‘हिंदू आतंकवाद’ की संज्ञा उछली। हिंदू और हिंदुत्व से दुराग्रह रखने वाले मीडिया के एक वर्ग में इस नई ‘संज्ञा’ में रोजाना नए ‘विशेषण’ जोड़ने की होड़ सी लग गई। इसी कड़ी में हाल ही में एक मीडिया समूह ने यह खुलासा किया कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से संबद्ध हिंदूवादी संगठन उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी की हत्या करने की साजिश रच रहे हैं।


15 जून, 2004 को गुजरात पुलिस ने केंद्रीय खुफिया एजेंसी की सूचना के आधार पर लश्करे-तैयबा के चार आतंकियों को मार गिराया था, जिसमें वह इशरत जहा भी शामिल थी जिसे सेकुलरिस्टों का कुनबा तब निर्दोष और भोलीभाली लड़की साबित करने पर अड़ा था। पिछले दिनों हेडली ने इसकी पुष्टि कर दी कि इशरत लश्कर की आतंकवादी थी। तब मीडिया के एक खंड ने उक्त घटना को पाठकों तक इस तरह प्रेषित किया था, जैसे गुजरात की ‘हिंदूवादी सरकार’ ने निरपराध अल्पसंख्यकों को मार गिराया है। 26/11 को मुंबई पर हुए आतंकी हमले के दौरान मालेगाव बम धमाके में हिंदू संगठन का हाथ ढूंढने वाले महाराष्ट्र आतंक निरोधी दस्ते के प्रमुख हेमंत करकरे शहीद हुए थे। तब भी उनकी मौत के लिए हिंदूवादी संगठनों को कसूरवार ठहराने की कोशिश की गई थी। एक पुस्तक लिखी गई-‘हू किल्ड करकरे’ और मीडिया में उसकी खूब चर्चा हुई, मानो पुस्तक का एक-एक शब्द ब्रह्मवाक्य हो।


प्रशासन तंत्र में हिंदूवादी व्यवस्था के हावी होने की चर्चा करते हुए पुस्तक में लिखा है, ‘यदि आईबी ने पहले ही हिंदू आतंक का खुलासा कर दिया होता तो ऐसे कई बम धमाके रोके जा सकते थे..उनकी योजना श्रृंखलाबद्ध बम धमाके कर आईबी में मौजूद अपने शुभचिंतकों के माध्यम से उसका ठीकरा मुस्लिम समुदाय पर फोड़ना थी।’ आश्चर्य की बात है कि भारतीय व्यवस्था में हिंदूवादी प्रभुत्व होने और अल्पसंख्यकों के दोहन की बात करने वाले उपरोक्त पुस्तक के लेखक स्वयं मुसलमान हैं और महाराष्ट्र पुलिस के आईजी रह चुके हैं। यदि मीडिया समूह के हाल के दुष्प्रचार का निहितार्थ निकालें तो हिंदूवादी संगठन उपराष्ट्रपति की हत्या इसलिए करना चाहते हैं, क्योंकि वह एक मुसलमान हैं। भारत की सनातनी बहुलतावादी संस्कृति पर यह घृणित लाछन क्या रेखाकित करता है?


जिस भाजपा पर मुस्लिम विरोधी होने का झूठा आरोप लगाया जाता है उसकी सरकार के दौरान ही डॉ. अब्दुल कलाम को राष्ट्रपति पद पर निर्वाचित किया गया था और उनके योगदान पर हर भारतवासी को गर्व है। इस बार आईएएस की परीक्षा में शीर्ष स्थान पर एक मुस्लिम को चुना गया। क्रिकेट और सिनेमा में बहुत से मुस्लिम बंधुओं ने किसी आरक्षण व्यवस्था के कारण अपनी पहचान नहीं बनाई है। यह मुकाम उन्हें अपनी प्रतिभा और बहुसंख्यक समाज के स्नेह के कारण मिला है। भारत में सभी मजहबों को समान अधिकार, संविधान की देन न होकर हिंदुत्व की संस्कृति और दर्शन से सिंचित है, किंतु सेकुलर विकृतियों ने हिंदुत्व को मुसलमान विरोधी बना रखा है। इसीलिए गोधरा को भूलकर गुजरात दंगों और राधाबाई चाल काड को गौण कर बेस्ट बेकरी की चर्चा होती है। आज देश का चालीस प्रतिशत हिस्सा नक्सली हिंसा का शिकार है। जिहादी इस्लाम का जहर कश्मीर से कन्याकुमारी तक फैल चुका है। बाग्लादेशी घुसपैठियों के कारण कुछ राज्यों के जनसंख्या स्वरूप में बदलाव के साथ आतरिक सुरक्षा पर भी खतरा मंडरा रहा है, किंतु सेकुलर सत्ता अधिष्ठान हिंदू आतंक का प्रलाप कर रहा है, जिसे मीडिया के एक वर्ग से समर्थन मिल रहा है।


इस्लामी आतंक के कुछ चेहरे देखिए। पश्चिम बंगाल के नादिया जिले के शातिपुर थाने में पड़ने वाले मिदेपाड़ा लिचुतला में 12 जुलाई को मुसलमानों का गाजिर मेला चल रहा था। मेले में आए स्थानीय मुसलमान लड़कों के झुंड ने स्कूल से लौट रही 13-14 वर्षीय तीन हिंदू छात्राओं को अगवा कर लिया और दिनदहाड़े उनके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। बाद में उन्हें मरणासन्न सड़क किनारे छोड़ चले गए।


हिंदू लड़कियों के साथ लौट रहीं घटना की चश्मदीद गवाह मुस्लिम छात्राएं कसूरवारो की पहचान से इनकार कर रही हैं। इस घटना की शातिपुर थाने में रपट दर्ज कराई गई, किंतु कोई कार्रवाई न होते देख पीड़ित पक्ष ने राजमार्ग संख्या 34 को जाम कर दिया। प्रशासन ने फौरन रैपिड एक्शन फोर्स बुला लिया। क्या सेकुलर मीडिया ने इस घटना की चर्चा इशरत जहा वाले मामले की तरह की? नहीं। क्यों? दूसरी घटना केरल की है। एक ईसाई कालेज के प्रोफेसर टीजे जोसेफ का हाथ जिहादी युवाओ ने काट लिया। कथित तौर पर जोसेफ ने ईशनिंदा की थी। इसके पाच दिन बाद नीलाबर में यात्री ट्रेन के करीब बीस कूपों के हौजपाइप काट डाले गए थे। पिछले एक सप्ताह में केरल के जिहादी तत्वों के संगठन-पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया और सोशलिस्ट डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया के विभिन्न कार्यालयों से भारी मात्रा में गोलाबारूद और घातक हथियारों का जखीरा बरामद किया गया। तटीय क्षेत्रों वाले इन हिस्सों में तबाही के सामान जुटते रहे और सरकार को इसकी सूचना नहीं रही। यह वस्तुत: वोट बैंक के लालच में काग्रेस और माकपाइयो द्वारा जिहादियों को गले लगाने का ही परिणाम है। चुनाव में कोयंबटूर धमाके के मास्टरमाइंड अब्दुल नासेर मदनी का साथ पाने के लिए काग्रेस और माकपा में होड़ लगती है। फिलहाल आतंकी गतिविधियों में शामिल होने के कारण मदनी की पत्नी सलाखों के पीछे है तो कर्नाटक पुलिस मदनी से अन्य आतंकी हमलों के बारे में फिर से पूछताछ कर रही है। इन सबकी चर्चा राष्ट्रीय मीडिया में क्यों नहीं?


इस्लामी आतंक का खतरा असम के जनसाख्यिक स्वरूप पर मंडरा रहा है। यही स्थिति रही तो पूर्वोत्तर एक बार फिर अलगाववाद की चपेट में होगा। यहा बाग्लादेशी घुसपैठियों को बसाकर आईएसआई उनका उपयोग भारत विरोधी गतिविधियों में कर रही है। कुछ दिनों पूर्व काजीरंगा नेशनल पार्क में घुसपैठियों द्वारा बस्ती बसाने की सूचना सामने आई थी। इसके साथ ही यह भी जानकारी मिली थी कि मुस्लिम बहुल इलाकों में नक्सली सुरक्षित ठिकाने बनाने में सफल हो रहे हैं। जिहादी इस्लाम और नक्सली हिंसा से सभ्य समाज लहूलुहान है, आम जनता आकाश छूती महंगाई के कारण त्रस्त है। इन आसन्न खतरों का सामना करने के बजाए सेकुलर सरकार और मीडिया का एक वर्ग जनता का ध्यान भटकाने के लिए ‘हिंदू आतंक’ का हौवा खड़ा करना चाहता है, परंतु क्या हम इन वास्तविक समस्याओं के प्रति शुतुरमुर्ग वाला रवैया अपना कर भारत की संप्रभुता को चुनौती दे रहे खतरों का सामना कर सकते हैं?

Source: Jagran Yahoo

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (10 votes, average: 4.90 out of 5)
Loading...

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग