blogid : 133 postid : 1509

लोकपाल विधेयक - सरकार की मंशा पर संदेह

Posted On: 23 Jun, 2011 Others में

संपादकीय ब्लॉगजन-जीवन को प्रभावित करने वाले मुद्दे, राष्ट्र की आकांक्षाओं को मूर्त रूप देने वाले विचार, संवेदना की धरातल पर विमर्श की गुंजाइश को जनम देता ब्लॉग

Editorial Blog

422 Posts

640 Comments

लोकपाल कानून बनाने का प्रारूप तैयार करने के लिए गठित संयुक्त समिति की आखिरी बैठक बिना किसी नतीजे के खत्म हो गयी. सरकारी सदस्यों और सिविल सोसायटी के बीच प्रारूप के स्वरूप को लेकर सहमति नहीं बन पाई. आखिरकार दो ड्राफ्ट तैयार किए गए  जिसमें से एक में टीम अन्ना का मत शामिल है जबकि दूसरे में सरकार का. सरकार किसी भी हालत में मजबूत व सक्षम लोकपाल मशीनरी बनाने को तैयार नहीं जबकि सिविल सोसायटी इसके दायरे में प्रधानमंत्री सहित सभी सांसदों व उच्चतम न्यायपालिका को भी लाना चाहती है.


आज देश के सामने सवाल ये है कि आखिर क्यों सरकार जनहित की उपेक्षा करती नजर आ रही है. सरकार के सलाहकार मजबूत लोकपाल के विरुद्ध तर्क देते जा रहे हैं. उनका मत है कि एक मजबूत लोकपाल संवैधानिक रूप से उचित नहीं होगा और इससे संसदीय लोकतंत्र के सिद्धांतों का उल्लंघन हो सकता है. यहॉ तक कि अन्ना और उनके साथियों पर लोकतंत्र को अपहृत करने के आरोप भी लगाए जा रहे हैं.


संदेह होता है सरकार की नीयत पर. क्योंकर मजबूत लोकपाल जैसी भ्रष्टाचार पर प्रभावी लगाम लगाने की मशीनरी का विरोध किया जा रहा है जबकि पूरा देश भ्रष्टाचार के खिलाफ उठ खड़ा हुआ है. आज जबकि देश में हर नागरिक की यही मंशा है कि किसी भी तरह भ्रष्टाचार खत्म हो ताकि विकास के लाभ आमजन को मिल सकें,  ऐसे में कांग्रेस नीत सरकार का ये रवैया हतप्रभ करता है.


यदि सरकार को अपनी साख बचानी है और देश के बारे में कुछ बेहतर सोचना है तो उसे जनता की मांग पर ध्यान देना ही होगा, अन्यथा लोकतांत्रिक देश की जनता सरकार को सही दिशा देने में खुद ही सक्षम है.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग