blogid : 147 postid : 1105224

इस नवरात्र मन में जलाएं सच्चाई की ज्योत

Posted On: 6 Oct, 2015 Others में

Jagran Junction BlogInsights from Bloggers into our products, technologies and Jagran culture.

JJ Blog

158 Posts

1211 Comments

नवरात्र पर्व के आते ही सम्पूर्ण वातावरण आनंदित हो उठता है। हल्की-हल्की ठंड के आगमन के साथ ही मौसम में बदलाव के संकेत मिलने शुरू हो जाते हैं। मां के स्मरण और अपने भक्तिभाव को उनके सामने अर्पण करते हुए अधिकतर लोग पूजा, व्रत आदि तरीकों द्वारा मां को नमन करते हैं।

मां की स्तुति में हम हर छोटी से छोटी की बातों का ध्यान भी बखूबी रखते हैं। इस दौरान हमारे द्वारा किए गए कार्यकलापों का असर हमारे मन पर ही नहीं बल्कि संपूर्ण वातावरण में दिखाई पड़ता हैं। भक्ति से कहीं न कहीं हर व्यक्ति में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। जब हम पूजा करते समय कुछ पल शांति से बैठते हैं तो किसी भी प्रकार की ऊहापोह से ऊपर उठकर हम खुद को बेहद शांत महसूस करते हैं। ठीक वैसी ही शांति का एहसास हमें किसी के लिए कुछ अच्छा करने से भी होता है। जरा सोचिए अगर हम सभी किसी के लिए कुछ अच्छा करने या किसी जरूरतमंद के लिए कोई भलाई का काम करें तो एक दिन पूरी दुनिया ही सकारात्मक ऊर्जा से लबालब होकर एक मंदिर बन जाएगी।


हम सभी में मां दुर्गा के नौ रूपों की तरह ही कई दिव्य व्यक्तित्व छुपे हुए हैं जो वक्त पड़ने पर मां दुर्गा की तरह सम्पूर्ण मानवजाति की भलाई के लिए बाहर आ सकती है बस जरूरत है तो खुद को पहचानने की।


आखिर भगवान भी तो मानवता की भलाई का सन्देश देते हैं स्वयं मां दुर्गा ने भी तो मानवता के कल्याण के लिए राक्षसों का संहार किया था। इस नवरात्र आपकी बारी है मानवता की दिव्य ज्योति मन में जगाने की, आपने भी रोजमर्रा की जिंदगी में ऐसे काम जरूर किए होंगे जो हम सभी के लिए एक मिसाल साबित हो सकती है। हो सकता है आपके द्वारा किए गए इन कामों से किसी की अंतरात्मा इतनी प्रभावित हो जाए जिससे वो इंसानियत के लिए कुछ कर गुजरने की ठान लें।


आपके ऐसे ही प्रेरणादायक कामों को सभी के साथ सांझा करने का मौका दे रहा है जागरण जंक्शन मंच। अगर आपके पास भी ऐसी कोई घटना या मानवता से जुड़ा सुखद पहलू है तो आप नवरात्र के इस शुभ अवसर पर हमारे साथ ऐसी बातों को साझा करके पूजा की ज्योत के साथ मानवता की ज्योत जला सकते हैं।


नोट: अपना ब्लॉग लिखते समय इतना अवश्य ध्यान रखें कि आपके शब्द और विचार अभद्र, अश्लील और अशोभनीय ना हों और किसी की भावनाओं को चोट ना पहुँचाते हों।


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग