blogid : 147 postid : 977

Happy April Fool’s Day - याद आ गया वही गुजरा जमाना

Posted On: 26 Mar, 2013 Others में

Jagran Junction BlogInsights from Bloggers into our products, technologies and Jagran culture.

JJ Blog

158 Posts

1211 Comments

उल्लू बनाया बड़ा मजा आया…………….यह लाइन सुनकर जरूर आपके बचपन की कुछ शैतानी भरी यादें ताजा हो गई होंगी। ऐसी यादें जो आपके लिए वो खास लम्हा बन गईं जिन्हें भूल पाना आपके लिए बिल्कुल संभव नहीं है।


बस कुछ ही दिनों में उन मस्ती भरी और शरारती यादों को फिर से एक बार जी उठने का मौका आने वाला है।


जी हां, सही पहचाना आपने, 1 अप्रैल यानि अप्रैल फूल डे। यह वो दिन है जब आपके भीतर का छिपा बच्चा बाहर आकर शैतानी करता है, आस-पड़ोस के लोगों के साथ हंसी-मजाक करता है और दूसरों के चेहरे पर खुशी देखकर उस बच्चे का चेहरा भी खुशी से खिल उठता है। वह बच्चा इस बात से बहुत संतुष्ट हो जाता है कि उसका छोटा सा मजाक सफल हुआ।


लेकिन कभी-कभी कुछ ऐसा भी हो जाता है जब आपका छोटा सा मजाक किसी दूसरे के लिए परेशानी का सबब बन जाता है। उस मजाक को आप तो हल्के में लेते हैं लेकिन जिसके साथ वो मजाक किया गया उसके लिए वह बहुत भारी पड़ गया।


यूं तो अप्रैल फूल डे पर बुरा मानने का रिवाज नहीं है लेकिन कभी-कभार वह मजाक अपनी सारी हदें पार लेता है और पीड़ित के लिए गले की फांस बन जाता है। परिणामस्वरूप आपका दांव उलटा पड़ जाता है। आप चाहते थे माहौल को हल्का बनाना लेकिन वह अत्याधिक संगीन बन जाता है और जिन करीबियों के साथ आपने वो मजाक किया है वह खुद को आपसे बहुत दूर कर लेते हैं।


कुछ ही दिनों में आने वाला अप्रैल फूल डे फिर उन्हीं यादों को अपने साथ लेकर आने वाला है और इस अवसर पर जागरण जंक्शन मंच अपने सभी सम्मानीय ब्लॉगरों को इस खास दिन से जुड़ी उन खट्टी-मीठी यादों को बयां करने का अवसर प्रदान कर रहा है। आप चाहें तो अपने स्वतंत्र ब्लॉग के माध्यम से अन्य ब्लॉगरों सहित सारी दुनिया को अपने उन संस्मरणों से अवगत करवा सकते हैं और उन लोगों से अपनी गलती की माफी भी मांग सकते हैं जो आपसे खफा हैं। इससे बेहतर क्या होगा कि जिस दिन वो आपसे रूठे थे उसी दिन फिर आपको गले लगा लें। तो फिर देर किस बात की, आने वाले अप्रैल फूल डे का स्वागत करें और वो भी पूरे जोशो-खरोश के साथ।


नोट: उपरोक्त मुद्दे पर आप कमेंट या स्वतंत्र ब्लॉग लिखकर अपनी राय व्यक्त कर सकते हैं। किंतु इतना अवश्य ध्यान रखें कि आपके शब्द और विचार अभद्र, अश्लील और अशोभनीय ना हों तथा किसी की भावनाओं को चोट ना पहुंचाते हों।


धन्यवाद

जागरण जंक्शन परिवार


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग