blogid : 1969 postid : 457

जरूर लें गुजरात के पारंपरिक व्यंजनों का स्वाद

Posted On: 20 Sep, 2010 Others में

Jagran YatraJagranyatra.com, Jagran Prakashan Ltd की वेबसाइट है. अगर धर्म, संस्कृति, त्यौहार, नई जगहों एवं लोगों के सफ़रनामों के बारे में पढ़ना आपको लुभाता है तो इस चिट्ठे को पढ़ते रहिए.

Yatra

68 Posts

89 Comments

Join us on : FACEBOOK

गुजरात या मुंबई के किसी लोकप्रिय गुजराती रेस्तरां में जाएं तो आप गुजराती थाली में व्यंजनों की संख्या देखकर भौंचक्के रह जाएंगे। खाने की पारंपरिक थाली में कढ़ी, उंद्रया, ढोकला, श्रीखंड, सेवगांठी, अमरस, दूधपाक, रोटियां, भाजियां व चटनियां आदि कई तरह के व्यंजन मिलेंगे। खमण ढोकला और श्रीखंड तो अब देश के कोने-कोने में मिलने लगे हैं।


सादा व जैन खाना


गुजरात में होटलों व रेस्तराओं में दो तरह के खाने मिलेंगे। एक सादा खाना और दूसरा जैन खाना। जैन खाने का सीधा मतलब है कि उसमें प्याज और लहसुन बिलकुल नहीं होगा।

उंद्रयो या उंद्रयू गुजराती खाने की जान है। इसे पकाने का खास तरीका है। भुने मीठे आलू, फलियां और अन्य एक-दो प्रकार की सब्जियों को मिट्टी की हांडी में डालकर उलटा जमीन में लगा दिया जाता है और फिर उसके ऊपर आग जला दी जाती है। इस तरह पकने के बाद उसमें छाछ, मिर्च, नमक व चटनी मिलाई जाती है।

FOR ABOUT VARIOUS CULTURE, CLICK HERE.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 2.75 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग