blogid : 4540 postid : 440

वो तो बस माँ थी

Posted On: 13 May, 2012 Others में

फुर्सत के दिन/fursat ke dinएक प्रयास,"बेटियां बचाने का"में शामिल होइए http://ekprayasbetiyanbachaneka.blogspot.com/

malkeet singh "jeet"

40 Posts

567 Comments

maa2 copy

वो तो बस माँ थी
##############
वो तो बस माँ थी जो सहम जाती थी मेरे रोने से
जिसे ,खुशबु आती थी मेरे गीले बिछोने से
मुझे वजूद मिला ‘वो ‘कहती है उस रब्ब से
मुझे पता है मै हूँ तो सिर्फ माँ के होने से
मेरी हर हार पे रोई है मुझी से छुपकर माँ
मेरी हर “जीत” है बस इस डर के होने से
रो देती है जीत जाने पर मुझ से लिपट कर माँ
वार दूँ जन्नत भी मै उसके यूँ रोने पे
आज भी जब रुक जाती है राह एक कोई
निकलती हैं नई राहें उसके आँचल के एक कोने से
वो तो बस माँ है जो सहम जाती थी मेरे रोने से
जिसे ,खुशबु आती थी मेरे गीले बिछोने से

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग