blogid : 9833 postid : 940093

क्षितिज-----

Posted On: 11 Jul, 2015 Others में

poems and write upsJust another weblog

jyotsnasingh

110 Posts

201 Comments

प्रतियोगिता के लिए —-
क्षितिज —
“पापा सूरज कहाँ डूबता है ??” नन्हे चीकू ने मासूम सा सवाल किया डूबते सूरज को देख कर !
मैंने कहा ” बेटा ! क्षितिज में जहाँ धरती और और आकाश मिलते हैं”
“पापा चलो हम क्षितिज के पास चलें ” हम चल पड़े पर क्षितिज दूर और दूर होता गया !
“पापा क्षितिज अब तक आया क्यूँ नहीं ???” चीकू थक चुका था और हम वापिस लौट चले !
मैं उसे क्या बताता की धरती और आकाश कभी मिलते नहीं बस ऐसा लगता है की कहीं दूर वो मिल रहे हैं! “देखो पापा ” वो चाँद ” चीकू ने आकाश की और ऊँगली उठाते हुए कहा !
“हाँ बेटा जब सूरज जाता है तो चाँद उगता है ,अपनी रौशनी से धरती को नहलाने के लिए ”
और धरती घूमती रहती है दिन रात साल दर साल उनकी रौशनी में नहाती हुई !
——- ज्योत्स्ना सिंह !

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग