blogid : 12313 postid : 655877

इंतज़ार

Posted On: 28 Nov, 2013 Others में

जिन्दगीमेरी अभिव्यक्ति

kantagogia

70 Posts

50 Comments

रूह तपती रही
जिस्म जलता रहा,
रात भर आस्मा
भी पिघलता रहा |
तेरे आने की उम्मीद लेकर जला
दीप तो बुझ गया
मगर-
दिल जलता रहा |
चाँद की रौशनी
धुन्धली होने लगी,
तारे भी गुम हुए,
वक़्त चलता रहा |
साथ मेरे यह जहाँ रो दिया,
दिल का लावा यों
बहकर निकलता रहा ,
रात भर आस्मा
पिघलता रहा |

– कान्ता गोगिया

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग