blogid : 12313 postid : 662140

ईमान गंदा हुआ .....

Posted On: 5 Dec, 2013 Others में

जिन्दगीमेरी अभिव्यक्ति

kantagogia

70 Posts

50 Comments

प्यार भी इस जहाँ में, अब धंधा हुआ,
हुस्न बहरा हुआ, इश्क़ अँधा हुआ |
——————————————-
मजनू, महिवाल, शेरां के इस मुल्क में,
क्या बताएं – ईमान कितना गंदा हुआ |
—————————————–
बेकसी क्यों नहीं है, वो शमां में अब,
क्यों जुनूं तेरा – परवाने, मंदा हुआ |
——————————————–
रिश्ता-ए-दिल समझता नहीं कोई अब,
रिश्ता-ए-जिस्म, उल्फत का फंदा हुआ |
——————————————–
है यह सच- तुमको शायद मंज़ूर नहीं,
हर कोई है किसी न किसी से तो बंधा हुआ |
——————————————

– कान्ता गोगिया

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग