blogid : 12313 postid : 780204

एहसान

Posted On: 3 Sep, 2014 Others में

जिन्दगीमेरी अभिव्यक्ति

kantagogia

70 Posts

50 Comments

सुख में साथ निभाने को सब आतुर ,
दुःख में कोई नहीं संगी साथी|
मेरे बाग़ के फूलों तुम याद रखो ,
पतझड़ की भी एक निराली शान है |
फिर कलियाँ मुस्कराएँगी इस आँगन में ,
फिर आएँगी नई कोपल इस डाल पर,
लहराते खेतों के पंछी याद रखो ,
थके हुए किसान का भी गुमान है |
कुछ तो मेरी आदत है लुटने की,
कुछ ने दोस्त बनकर लूटा है |
नाप रही मैं जग की गहराई ,
सब को पहचान सकूँ यह अरमान है |
हर बादल बरसात नही करता है ,
हर दरिया गंगाजल नहीं होता है ,
दो पल का चैन मिला मुझे तुम से,
जीवन भर की यही कमाई, यही एहसान है |

-(c ) कान्ता ‘दीप’

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग