blogid : 12313 postid : 698957

शब्द नहीं हैं (प्रणय काव्य - कांटेस्ट)

Posted On: 5 Feb, 2014 Others में

जिन्दगीमेरी अभिव्यक्ति

kantagogia

70 Posts

50 Comments

शब्द नहीं हैं पास मेरे रचने को –
सिर्फ तुम्हारी आँखें ही
पर्याप्त हैं , सारा कुछ कहने को |
क्षण भर तुम्हारा मुझे अपलक तकना
लयबद्ध कर गया मेरी सम्पूर्ण चेतना
फिर बोलो शेष क्या
शब्दों में बंधना |

-कान्ता गोगिया

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग