blogid : 12313 postid : 655917

ग़ज़ल

Posted On: 28 Nov, 2013 Others में

जिन्दगीमेरी अभिव्यक्ति

kantagogia

70 Posts

50 Comments

यारों! कहाँ तक और मोहब्बत निभाऊं मैं ?
दो मुझको बददुआ कि उसे भूल जाऊं मैं |

सुनती हूँ अब किसी से वफ़ा कर रहा है वो,
ऐ जिंदगी ! ख़ुशी में कहीं न मर जाऊं मैं |

कुछ कदम भी साथ मेरे चल न सका वो,
हिज्र कि रात आ, कि तुझे आजमाऊं मैं |

उस जैसा नाम रखके अगर आये मौत भी,
हंसकर उसे ‘सागर’ , गले से लगाऊं मैं |

– कान्ता गोगिया

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग