blogid : 12407 postid : 765554

गाँस खंजरशुदा हो गई

Posted On: 22 Jul, 2014 Others में

अंतर्नादमैंने स्वयं रचा, तुम्हारा अनुभूत सत्य, तुम्हारे लिए ...

Santlal Karun

63 Posts

1122 Comments

गाँस ख़ंजरशुदा हो गई


डूब सूरज गया दोपहर का

चाँदनी भी विदा हो गई |


रात अँधेरी न घर तेल-बाती

तनहा कटतीं न काटे ये रातें

लद गईं दर्द की मारी पलकें

नींद जैसे हवा हो गई |


टूटे दर्पन की तीखी दरारें

जिन पे उँगली फिराती हैं सुधियाँ

घाव फिर-फिर हरे हो रहे

गाँस ख़ंजरशुदा हो गई |


मील-पत्थर-सा ऐसा क्या जीना

खंडहर-मौत क्या मर न पाए

रोज ज़िंदा दफ़न करती अपना

ज़िन्दगी खुद सज़ा हो गई |


नाव कागज़ की ओ, खेनेवाले !

सिर्फ़ वादे ही भारी लगे क्यों ?

आँसू दिल के धुआँ हो गए

साँस जलती चिता हो गई |


— संतलाल करुण

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (13 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग