blogid : 12407 postid : 694309

संस्मरण : एक अदद ग़ज़ल मेरे आगोश में भी

Posted On: 26 Jan, 2014 Others में

अंतर्नादमैंने स्वयं रचा, तुम्हारा अनुभूत सत्य, तुम्हारे लिए ...

Santlal Karun

63 Posts

1122 Comments

संस्मरण :

एक अदद ग़ज़ल मेरे आगोश में भी


साहित्य सरताज कॉन्टेस्ट के आमंत्रण में लघु-कथा की भी श्रेणी है | मेरा कथा-कहानी का अनुभव बिलकुल नहीं है | बड़ी उधेड़-बुन के बाद विषय ज़ेहन में आया | कथा सीधे कम्प्यूटर पर लिखने बैठा तो छह सौ शब्दों से अधिक चली गई | संवाद कई जगह जमे नहीं तो उन्हें दुरुस्त करना पड़ा | क्लाइमेक्स की समस्या अलग से परेशान कर रही थी | बामशक्कत बड़ी मुश्किल से बात बनी, शब्दों को अपेक्षित सीमा में ला पाया और कथा के चरमोत्कर्ष को व्यवस्थित कर पाया | फिर ‘सबसे बड़ा दर्द और कई मृत्युदण्ड की सज़ा’ को ‘जागरण जंक्शन’ के हवाले किया | अब मैं भी एक लघु-कथा के बल पर क़िस्सा-गो होने का दंभ भर सकता हूँ |


इधर ग़ज़ल कटेगरी में फ़िरदौस ख़ान ने बड़ी प्यारी-सी ग़ज़ल कही है | उसके पहले सरिता सिन्हा भी कॉन्टेस्ट में एक वज़नदार ग़ज़ल पोस्ट कर चुकी हैं | उन दोनों की वजह से मुझ में भी जैसे ग़ज़लगोई के सुर-सा कुछ होने  लगा | तुरंत कलम सँभाली और नोटबुक लेकर बैठ गया | दिल को ख़ूब नरम किया, अच्छे-अच्छे ख़याल लाने की कोशिश की, बहुत से तुक्के भी सेट किए, पर ग़ज़ल थी कि कड़ाके की ठण्ड में दिलोदिमाग का कमरा छोड़ने को हरगिज तैयार न हुई | पता नहीं वह कमरे में है भी या नहीं ? कौन बताए ? आखिर किससे पूछूँ ! कहाँ-कहाँ हाँक लगाऊँ ? या टॉफी देने के बहाने से फुसलाऊँ ! या फिर उसके लिए कोई और साजिश रचूँ ! कुछ समझ में नहीं आ रहा था | वह भी ग़ज़ल  ठहरी, रील-लाइफ़ की कोई बहकी हुई लड़की नहीं कि मनचले हीरो ने सीटी मारी और वह कमरे से निकलकर  घर के छज्जे पर मुस्कराती हुई खड़ी हो गई | इस तरह मेरा देर से दिमाग पर ज़ोर देना बेकार जाता रहा | ग़ज़ल ने अच्छा ख़ासा झाँसा दिया था | फिर हारे को हरिनाम भी सूझा– ‘जागरण जंक्शन’ ने भजन की कटेगरी क्यों नहीं रखी ? अब तक कुछ लाइनें तो जुड़ ही गई होतीं | मन में तरह-तरह के ख़याल आ रहे थे | यह विचार भी आया कि अगर खोपड़ी पर हथौड़ी मारने से ग़ज़ल निकल आए, तो वह जोख़िम भी ग़ज़ल-सुन्दरी के लिए मँहगा नहीं है | फिर सोचने लगा कि इस उमर में ग़ज़लें मुझे चारा क्यों डालेंगी | एड्स के बावजूद दिल-दिल्लगी का उम्र से वास्ता आधुनिकों की खुली आशिक़ी ने भले ही किनारे लगा दिया हो, पर ग़ज़ल ने मेरी उम्र को जैसे अच्छी तरह नाप-जोख लिया है | इसलिए मेरा दाना-चारा वह चुगने से रही ! वैसे भी ग़ज़ल का मेरा अनुभव कहानी की तरह न के बराबर है | इसलिए अच्छी तरह समझ में आ चुका था कि ग़ज़लों को फाँसना नहीं आसां, उसके लिए तो ग़ालिब-हुनर चाहिए |


मेरा मानना है कि ग़ज़ल के शे’र और दोहे के चरण कागज़-कलम देखकर बिदकते हैं | इन्हें बैठकर डायरी, नोटबुक आदि में नहीं सँभाला जा सकता | ये तो सोते-जागते, उठते-बैठते, आते-जाते, जगह-बेजगह जैसे ही कुलबुलाएँ उठाकर पोटली में डाल लीजिए | देर मत कीजिए, नहीं तो नामुराद मिसरे ख़रगोश की तरह ऐसे बेहाथ हो जाते हैं कि बस हाथ मलते रहिए | कलम-दवात से जो ग़ज़लें कही जाती हैं, वे ग़ज़लें नहीं पैबंद होती होगीं, उनमें वह नज़ाकत, वह हसरतें नहीं होती होगीं | यही शर्तें दोहे पर भी लागू होती हैं | तभी तो महाकवि बिहारी पूरे जीवन में केवल सात सौ दोहे रच पाए | यही वजह है कि घंटों माथा-पच्ची करने तथा दिमाग पर खरोंच डालने के बाद भी ग़ज़ल मुझ नोट-बुक वाले नौसिखिये से आँख-मिचौनी के लिए कतई तैयार नहीं हुई | फ़िल्मी गानों को अगर दो कटेगरी में बाँटना हो तो एक कटेगरी अच्छे गानों की होगी, दूसरी सड़क छाप की | इसी तरह एक ओर ‘कामायनी’ के छंद और ‘राम की शक्ति-पूजा’ की काव्य-पंक्तियाँ हैं तथा दूसरी ओर मनोरंजक किस्म की ख़ालिस तुकबन्दियाँ | इसलिए आज मेरी ग़ज़लगीरी से जो चंद लाइनें पकड़ में आई हैं, वह दुशासन-सा ज़बरन पल्लू पकड़कर खींचना ही तो हुआ | उसमें ग़ज़ल कहाँ और ग़ज़ल की आब कहाँ ?


पर लघु-कथा की तरह एक अदद ग़ज़ल भूले-भटके मेरे आगोश में भी कभी आ गई थी | मेरे साथ उसकी गलबाँही का भी एक क़िस्सा है | बात लगभग 14 साल पहले, जून 1999 की है | उस समय मैं प्रशिक्षण-कोर्स के लिए सागर ( म.प्र. ) में था | श्री अटल बिहारी बाजपेयी मिस्टर नवाज़ शरीफ़ से गले लगकर स्वदेश क्या लौटे, कुछ आस्तीन के साँप उनके पीठ पीछे ही आ गए थे और जहाँ सरहदों के सिर नंगे दिखाई दिए, वहीं फन फैलाकर फूत्कार भरना शुरू कर दिया था | यानिकि घुसपैठियों के भेष में पाकिस्तानी सैनिक अपने षड्यंत्र को अंजाम दे चुके थे | फिर क्या था, आगे की कहानी जग-ज़ाहिर है | किस प्रकार पाकिस्तान की सरकार और सेना अमानवीय व्यवहार के साथ अपने ही सैनिकों की लाश पहचानने और लेने से मना करती थी और हमारे जाँबाज़ अपने शहीदों के साथ-साथ पाकिस्तानी सैनिकों की लाशें भी ढोते थे, पूरी दुनिया ने जाना | जब कि हमारे यहाँ शहीदों के शव घरों तक ससम्मान आते और सम्मान सहित उनकी अंतेष्टि में पूरा हुजूम शामिल होता, घर-परिवार के लोगों का रोना देख छाती फट-सी जाती |


मैं सुबह उठते ही अख़बार की सुर्ख़ियों और ख़ास कवरेज को देखता था | सम्पादकीय पृष्ठ पर भी काफी सामग्री होती थी | लंच के समय मैं जल्दी से लंच करके टीवी की ओर दौड़ पड़ता था | ट्रेनिंग पीरियड के बाद शाम को भी टीवी समाचारों में सब की दिलचस्पी होती थी | वह पहला मर्तबा था कि हम अपने सैनिकों की देशभक्ति और और बलिदान को टेलीविजन के माध्यम से देख रहे थे | देर रात तक चर्चा और बहस का दौर चलता था | इस तरह जो तथ्य, दृश्य, विचार, चर्चाएँ आदि मेरी संवेदनाओं से गुजरे उन्होंने कुछ रचनाओं का रूप ले लिया | उन्हीं में से एक छोटी-सी ग़ज़ल जो उन दिनों अनायास मेरे जेहन में सुबुगाती रही, ग़ज़ल का अनुभव न होते हुए भी मेरी रचनाधर्मिता में शामिल हो गई | ऐसा कब और कैसे हुआ मुझे पता न चला | क़ुदरती तौर पर कुछ बातें ऐसी होती हैं, जो बादल की तरह उठती हैं और बारिश की तरह बरस जाती हैं | उनके लिए किसी ताम-झाम की ज़रूरत नहीं होती | कविकर्म कृत्रिमता से दूर वैसे ही सहज प्रवाह से तात्विक तथा प्रभाशाली स्वरूप ग्रहण करता है | कहाँ आज की मेरी ग़ज़ल को लेकर ज़ोर-आज़माई और कहाँ उस  ग़ज़ल की बेपनाह आमद ! इसीलिये वह आज बहुत-बहुत याद आई और उसकी याद ताज़ा हो गई | उस ग़ज़ल में देश की रक्षा के लिए मर-मिटने के संकल्प के साथ आगे बढ़ते सैनिकों की उत्कंठा अभिव्यंजित हुई है | उस ग़ज़ल-ए-शहीदाँ का एक शे’र कारगिल के लिए आगे बढ़ रहे जवानों के बेइंतिहा हौसले को कुछ इस कदर बयाँ करता है—


“हमज़बाँ देखा ग़ज़ब लगते शरीफ़ों को गले

ज़ह्रागीं मारे-आस्तीं को ख़ुद मिटाने चल पड़े |”



— संतलाल करुण

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (10 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग