blogid : 12407 postid : 755597

हृदय सहचर

Posted On: 17 Jun, 2014 Others में

अंतर्नादमैंने स्वयं रचा, तुम्हारा अनुभूत सत्य, तुम्हारे लिए ...

Santlal Karun

63 Posts

1122 Comments

हृदय सहचर


तुम्हारा रूप था ऐसा

आह, कितना रहा सुन्दर !


तुम्हारा हृदय था निर्मल

मेरे मन का सहज सहचर |


तुम्हारे हाथ रखते थे

मेरे कर्मों से न अंतर |


तुम्हारे पाँव बढ़ते थे

मेरे संघर्ष के पथ पर |


तुम्हारा अंत ही दाहक

जलूँ दिन-रात रह-रहकर |


हवन-सी अनबुझी यादें

सँजोए आह भर-भरकर |


— संतलाल करुण

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (16 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग