blogid : 3669 postid : 400

आख़िरी मुलाक़ात!!!!

Posted On: 24 Mar, 2011 Others में

सांस्कृतिक आयामभारतीय संस्कृति को समर्पित ब्लॉग © & (P) All Rights Reserved

वाहिद काशीवासी

24 Posts

2210 Comments

—————————————————————–

आख़िरी मुलाक़ात है ये आख़िरी कलाम,
चल दिए सफ़र पर लेकर तेरा ही नाम;


एक वक़्त था लम्हों में जो भूल नहीं सकता,
एक उम्र गुज़ारी थी लेकर सुबह से शाम;


मालिक से दुआ की थी क़ुबूल न हो पायी,
अहले जहां में अब है मेरा भला क्या काम;


न हो सका मुयस्सर मुझको कभी क़रार,
चलता रहा राहों में अपने जिगर को थाम;


शिकवा नहीं किसी से, किससे करूँ गिला,
जो आगाज़े दिल को मेरे ना मिला अंजाम;


अपनी ज़मीं, अपनी हवा, अपना है आसमां,
अपना वतन है यारों, उनका नहीं ग़ुलाम;


कैसी है ये ज़ुंबिश, उठते नहीं क़दम,
जज़्बाए दिल के होते, नहीं रुक सकेगा काम;


लेता हूँ विदा यारों, नहीं अलविदा कहा है,
बीते हैं दिन भी कितने, कर लूं ज़रा आराम;


ऐ’वाहिदे नादां’ इसे क्यूँ भूलता है तू,
तेरा अदब, तेरी अदा, तेरा जो है मुक़ाम;


अब वक़्त हो चला है, मंज़िल को छोड़ने का,
सफ़रे तवील ही है, मुकम्मल तेरा क़याम;

—————————————————————–

=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*

अहले जहां = दुनिया, मुयस्सर = उपलब्ध, ज़ुम्बिश = कंपन, अदब = साहित्य,

सफ़रे तवील = लंबा सफ़र, ज़िंदगी, मुकम्मल = पूर्ण, क़याम = पड़ाव

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (14 votes, average: 4.71 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग