blogid : 3669 postid : 314

बम-बम लहरी:महाशिवरात्रि पर विशेष

Posted On: 2 Mar, 2011 Others में

सांस्कृतिक आयामभारतीय संस्कृति को समर्पित ब्लॉग © & (P) All Rights Reserved

वाहिद काशीवासी

24 Posts

2210 Comments

बम-बम लहरी,बम-बम लहरी,
तू ही नाशक,तू ही प्रहरी;


कैलाश के उत्तुंग शिखर,
तुम खिले पुष्प हम हुए भ्रमर,
तुम पर ही अब दृष्टि ठहरी;
बम-बम लहरी…


यह तेरा ही प्रताप है,
मिट गए सब विलाप हैं,
तुझसे भक्ति हुई गहरी…
बम-बम लहरी…

तू ही था पहले तू ही बाद,
गूंजा था जब वह शंखनाद,
ताण्डव से सारी सृष्टि सिहरी;
बम-बम लहरी…


तू परमब्रह्म, तू रत्नाकर,

तेरी यह प्रेम सुधा पाकर,

धन्य हुई काशी नगरी;

बम-बम लहरी

काशी का कंकर शंकर है,

क्रोधित तो रूद्र भयंकर है,

दस दिश उसकी आभा बिखरी;

बम-बम लहरी

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (18 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग