blogid : 3669 postid : 173

बस कुछ ही दूर .....

Posted On: 7 Feb, 2011 Others में

सांस्कृतिक आयामभारतीय संस्कृति को समर्पित ब्लॉग © & (P) All Rights Reserved

वाहिद काशीवासी

24 Posts

2210 Comments

कृपया उपर्युक्त विडियो में मेरे द्वारा सुरबद्ध गीत का आस्वादन अवश्य करें|

^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^

बस कुछ ही दूर है तेरे घर से घर मेरा,

पर फ़ासला जो तय करना है मेरे दिल से दिल तेरा;

तेरे मेरे बीच हैं बस इतनी दूरियां,

इक पीपल का पेड़ है और थोड़ी मजबूरियां;

तेरे मेरे बीच हैं…..


The one for whom this song was written...गुज़र गए दिन इतने कुछ भी न हो सका,

पाने को कुछ भी न था,ना कुछ मैं खो सका,

तेरा तसव्वुर और ख़यालात हैं तेरे,

कोई ज़ाना जैसे मिला हो गड़ा गहरे;

तेरे मेरे बीच हैं…..


क्या-क्या न जान लिया, जाना है यूँ तुझको,

जाना बहुत तुझे जाना, ये गुमां है मुझको,

काश तू ये जान सके, क्या-क्या मैंने जाना है,

और तू भी मान ले जो, मैंने तुझको माना है;

तेरे मेरे बीच हैं…..


अब उस पल का बस मुझे इंतज़ार है,

जब कर सकूँ मैं बयां मुझे तुझसे प्यार है,

हो यक़ीं तुझको भी तू भी करे ले ये इक़रार,

जितना प्यार मुझको है, तुझको भी है उतना प्यार;

तेरे मेरे बीच हैं…..

^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^

=*=*=*=*=*

जाना = महबूबा

=*=*=*=*=*

सूचना: यह गीत एवं इससे आबद्ध सभी सामग्री – जैसे की धुनरचित गीत और चित्र, लेखक द्वारा स्वरचित एवं अधिकृत हैं एवं बिना अनुमति इनका किसी भी रूप में उपयोग वर्जित है|

© & (P) सर्वाधिकार सुरक्षित All Rights Reserved

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (31 votes, average: 4.58 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग