blogid : 9509 postid : 1214549

गीत - बाढ़ की दाढ़ में

Posted On: 29 Jul, 2016 Others में

शंखनादयदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत | अभ्युत्थानमधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम् || परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम् | धर्मसंस्थापनार्थाय सम्भवामि युगे युगे ||

कुमार गौरव अजीतेन्दु

61 Posts

588 Comments

है फँसा गाँव फिर बाढ़ की दाढ़ में

तोड़ तटबंध को दानवी आ गयी
वृष, किसानों सहित खेत भी खा गयी
युद्ध इसबार कर तो रही झोंपड़ी
किंतु मिलने लगी अब चुनौती कड़ी
डिग रहे पाँव फिर बाढ़ की दाढ़ में

खोखला तंत्र ये खोखला ही रहा
दूरदर्शन तले भाषणों में बहा
वायदों की लड़ी आसमानी हुई
जस की तस ही मगर सब कहानी हुई
डूबते दाँव फिर बाढ़ की दाढ़ में

अब प्रतीक्षा यही, बीत जाए समय
और को लील पाए नहीं ये प्रलय
प्राण जिनके बचे, दीन जाएँ कहाँ?
दीखते बस भटकते यहाँ से वहाँ
खोजते छाँव फिर बाढ़ की दाढ़ में

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग