blogid : 875 postid : 476

ज़रा सोचो....!!

Posted On: 21 Jun, 2012 Others में

KADLI KE PAAT कदली के पातचतुर नरन की बात में, बात बात में बात ! जिमी कदली के पात में पात पात में पात !!

R K KHURANA

81 Posts

3239 Comments

ज़रा सोचो

zara socho

राम क़ृष्ण खुराना

आज गरीब और गरीब क्यों हो रहा है ज़रा सोचो,

मां की छाती से लिपटा बच्चा क्यों रो रहा ज़रा सोचो !

गरीबी और भूख में अपनों की आंखें भी बदल जाती हैं,

स्कूल जाने की उम्र में बचपन टोकरी ढो रहा ज़रा सोचो !



हर किसी में दूसरों को कुछ देने का जज्बा नहीं होता !

बिना गली, बिना मोहल्ले के कोई कस्बा नहीं होता !

किसी का दर्द बांटने में कितना सकून मिलता है,

ठिठुरता नंगा बदन ढकने से कम रुतबा नहीं होता !



एक जलता हुआ दिया कई और दिए जला सकता है !

एक पढा-लिखा इंसान कई लोगों को पढा सकता है !

मिट्टी में मिलकर एक बीज बनाता हैं लाखों बीज,

शीतल दरिया जल का, सबकी प्यास बुझा सकता है !



खूब मेहनत करो, भगवान करे बहुत कमाओ तुम !

कमाई का दसवां हिस्सा दान-पुन्न में लगाओ तुम !

लाखों अनाथ बच्चे हैं दर दर भटक रहे इस जहाँ में,

कुछ बच्चों को पालो, कुछ बच्चों को पढाओ तुम !

राम क़ृष्ण खुराना

426-ए, माडल टाऊन ऎक्टेंशन,

नजदीक कृष्णा मन्दिर,

लुधियाना (पंजाब)

99889-27450

khuranarkk@yahoo.in

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (21 votes, average: 4.81 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग